माल्यवती नदी  

Icon-edit.gif इस लेख का पुनरीक्षण एवं सम्पादन होना आवश्यक है। आप इसमें सहायता कर सकते हैं। "सुझाव"

माल्यवती नदी चित्रकूट के निकट बहने वाली मंदाकिनी जान पड़ती है-[1]

कालिदास ने चित्रकूट के निकट बहने वाली मंदाकिनी को भूमि के गले में पड़ी हुई मौक्तिक माला के समान बताया है।

'सुरम्यमासाद्य तु चित्रकूटं नदी च तां माल्यवतीं सुतीर्याम् ननद ह्रष्टो मृगपक्षिजुष्टां जहौ च दु:खं पुरविप्रवासात'।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. वाल्मीकि रामायण 2,56,3

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=माल्यवती_नदी&oldid=250567" से लिया गया