वितस्ता नदी  

वितस्ता कश्मीर तथा पंजाब में बहने वाली झेलम नदी का प्राचीन वैदिक नाम है। संभवत: सर्वप्रथम मुसलमान इतिहास लेखकों ने इस नदी को 'झेलम' कहा, क्योंकि यह पश्चिमी पाकिस्तान के प्रसिद्ध नगर झेलम के निकट बहती थी और नगर के पास ही नदी को पार करने के लिए शाही घाट या शाह गुज़र बना हुआ था। झेलम नगर के नाम पर ही नदी का वर्तमान नाम प्रसिद्ध हो गया।[1]

पौराणिक उल्लेख

'ऋग्वेद' के प्रसिद्ध 'नदीसूक्त'[2] में इसका उल्लेख है-

‘इमं मे गंगे यमुने सरस्वति शुतुद्रि स्तोमं सचता परुष्ण्या असिकन्या मरुदवृधे वितस्तयार्जीकीये श्रृणुह्य सुषोमया।'
  • महाभारत के समय यह नदी बहुत पवित्र मानी जाने लगी थी-
'वितस्तां पश्य राजेंद्र सर्वपापप्रमोचनीम् महषिंभिश्चाध्युषितांशीततोययां सुनिर्मलाम्।'[3]
‘नदीं वेत्रवतीं चैव कृष्णवेणां च निम्नगाम्, इरावती वितस्तां च पयोष्णीं देविकामपि।'
‘चंद्रभागा मरुद्वृधा वितस्ताअसिक्नी।'

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर |संकलन: भारतकोश पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 853 |
  2. नदीसूक्त 10, 75, 5
  3. महाभारत, सभापर्व 130, 20
  4. भीष्मपर्व 9,16
  5. =रावी
  6. श्रीमद्भागवत 5, 19, 18
  7. पर्वत से
  8. =हिन्दी बीता
  9. Hydaspes

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=वितस्ता_नदी&oldid=509560" से लिया गया