सरस्वती नदी  


सरस्वती नदी
सरस्वती नदी
देश भारत, पाकिस्तान
राज्य हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, राजस्थान, पंजाब
उद्गम स्थल उत्तरांचल में रूपण नाम के हिमनद से[1]
सहायक नदियाँ यमुना, सतलुजघग्घर
पौराणिक उल्लेख ऋग्वेद के नदी सूक्त में सरस्वती का उल्लेख है, 'इमं में गंगे यमुने सरस्वती शुतुद्रि स्तोमं सचता परुष्ण्या असिक्न्या मरूद्वधे वितस्तयार्जीकीये श्रृणुह्या सुषोमया'[2]
धार्मिक महत्त्व प्रयाग के निकट गंगा-यमुना संगम में मिलने वाली एक नदी जिसका रंग लाल माना जाता था।
अन्य जानकारी वाल्मीकि रामायण में भरत के केकय देश से अयोध्या आने के प्रसंग में सरस्वती और गंगा को पार करने का वर्णन है- 'सरस्वतीं च गंगा च युग्मेन प्रतिपद्य च, उत्तरान् वीरमत्स्यानां भारुण्डं प्राविशद्वनम्'[3]
Disamb2.jpg सरस्वती एक बहुविकल्पी शब्द है अन्य अर्थों के लिए देखें:- सरस्वती (बहुविकल्पी)

सरस्वती नदी पौराणिक हिन्दू धर्म ग्रन्थों तथा ऋग्वेद में वर्णित मुख्य नदियों में से एक है। ऋग्वेद के नदी सूक्त में सरस्वती का उल्लेख है, 'इमं में गंगे यमुने सरस्वती शुतुद्रि स्तोमं सचता परुष्ण्या असिक्न्या मरूद्वधे वितस्तयार्जीकीये श्रृणुह्या सुषोमया'[4] वेद पुराणों में गंगा और सिंधु से ज्यादा महत्त्व सरस्वती नदी को दिया गया है। इसका उद्गम बाला ज़िला के सीमावर्ती क्षेत्र सिरपुर की शिवालिक पहाड़ियों में माना जाता है। वहां से बहती हुई यह जलधारा पटियाला में विनशन नामक स्थान में बालू में लुप्त हो जाती है।

नामकरण

‘सरस’ यानी जिसमें जल हो तथा ‘वती’ यानी वाली अर्थात जलवाली; इस अर्थ में इसका नामकरण हुआ है। इसका अंत अप्रकट होने के कारण इसे अंत:सलिला की संज्ञा दी गई है।

भौगोलिक संरचना

मैदानी क्षेत्र में इसका प्रवेश आदि बद्री के पास होता है। भवानीपुर और बलछापर से गुजरती हुई यह बालू में लुप्त हो जाती है, फिर थोड़ी दूर पर करनाल से बहती है। घाघरा नदी जिसका उद्-गम भी इसी क्षेत्र से है, 175 किमी की दूरी पर जाकर रसूला के निकट इससे मिल जाती है। यह बीकानेर के पहले हनुमानगढ़ के पास बालुकामय राशि में लुप्त हो जाती है। अब भी बीकानेर से क़रीब दस किमी दूर रेतीले इलाके को सरस्वती कहकर पुकारते हैं।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 1.2 1.3 1.4 गुप्त, डा. स्वराज्य प्रकाश। वैज्ञानिक प्रमाण, पुरातात्विक तथ्य (हिंदी) (एच.टी.एम.एल) पाञ्चजन्य डॉट कॉम। अभिगमन तिथि: 13 जनवरी, 2013।
  2. ऋग्वेद 10,75,5
  3. वाल्मीकि रामायण अयो. 71,5
  4. ऋग्वेद 10,75,5
  5. 5.0 5.1 और सरस्वती क्यों न बही अब तक? (हिंदी) (पी.एच.पी.) India Water Portal। अभिगमन तिथि: 13 जनवरी, 2013।
  6. ऋग्वेद 10,75,5
  7. वाल्मीकि रामायण अयो. 71,5
  8. 'ततो विनशनं राजन् जगामाथ हलायुध: शूद्राभीरानृ प्रतिद्वेषाद् यत्र नष्टा सरस्वती' महा. शल्य0 37,1
  9. विनशन
  10. 'एतद् विनशनं नाम सरस्वत्या विशाम्पते द्वारं निषादराष्ट्रस्य येषां दोषात् सरस्वती। प्रविष्टा पृथिवीं वीर मा निषादा हि माँ विदु:
  11. श्रीमद् भागवत (5,19,18
  12. मंदाकिनीयमुनासरस्वतीदृषद्वदी गोमतीसरयु
  13. मेघदूत पूर्वमेघ
  14. कृत्वा तासामभिगममपां सौम्य सारस्वतीनामन्त:शुद्धस्त्वमपि भविता वर्णमात्रेण कृष्ण:
  15. 'भरत वचन सुनि भांझ त्रिवेनी, भई मृदुवानि सुमंगल देनी'-तुलसीदास
  16. मनूची, जिल्द 3,पृ0 75.

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=सरस्वती_नदी&oldid=593866" से लिया गया