प्रवेणी नदी  

प्रवेणी नदी के निकट कण्वाश्रम की स्थिति बताई गई है तथा संभवत: इसी नदी के तट के समीप माठर वन[1] को स्थित बताया है।

'प्रवेणी प्रवेण्युत्तरमार्गे तु पुण्ये कण्वाश्रमे,
तापसानामरण्यानि कीर्तितानि यथा-श्रुति'।[2]


टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. माठरस्यवनं पुण्यं बहुमूल फलं शिवम' -वनपर्व महाभारत 88, 10
  2. वनपर्व महाभारत 88, 11

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=प्रवेणी_नदी&oldid=240221" से लिया गया