जाह्नवी  

  • पृथ्वी पर गंगाजी के आते ही हाहाकार मच गया। जिस रास्ते से गंगाजी जा रही थीं, उसी मार्ग में ऋषिराज जहु का आश्रम तथा तपस्या स्थल पड़ा।
  • तपस्या में विघ्न समझकर वे गंगाजी को पी गए।
  • फिर देवताओं के प्रार्थना करने पर उन्हें पुन: जांघ से निकाल दिया। तभी से ये जाह्नवी कहलाईं।
  • दूसरी मान्यता को अनुसार गंगा को जहु ऋषि ने पी लिया था तथा राजा भगीरथ की प्रार्थना पर जहु ऋषि ने गंगा को अपने कान से निकाल दिया था। अत: तभी से गंगा का अन्य नाम जाह्नवी भी पड़ गया।



पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=जाह्नवी&oldid=332287" से लिया गया