देवप्रयाग  

देवप्रयाग
अलकनंदा तथा भागीरथी नदियों का संगम स्थल
विवरण 'देवप्रयाग' हिन्दुओं के प्रसिद्ध धार्मिक स्थलों में से एक है। यहाँ अलकनंदा तथा भागीरथी नदियों का संगम हुआ है।
राज्य उत्तराखण्ड
ज़िला टिहरी गढ़वाल
भौगोलिक स्थिति समुद्र की सतह से 830 मीटर की ऊंचाई पर स्थित।
प्रसिद्धि हिन्दू धार्मिक स्थल
कब जाएँ जनवरी से जून और सितंबर से दिसंबर
हवाई अड्डा जौली ग्रांट, देहरादून
रेलवे स्टेशन ऋषिकेश
क्या देखें 'रघुनाथ मंदिर', 'डांडा नागराज मंदिर', 'चंद्रबदनी मंदिर' आदि।
विशेष देवप्रयाग को 'सुदर्शन क्षेत्र' भी कहा जाता है। यहाँ कौवे दिखायी नहीं देते, जो की एक आश्चर्य की बात है।
अन्य जानकारी देव शर्मा नामक एक ब्राह्मण की कठिन तपस्या से प्रसन्न होकर भगवान विष्णु ने उसे वरदान दिया था। देव शर्मा के नाम पर ही देवप्रयाग नाम प्रचलन में आया।

देवप्रयाग उत्तराखण्ड में कुमायूँ हिमालय के केंद्रीय क्षेत्र में टिहरी गढ़वाल ज़िले में स्थित एक प्रसिद्ध तीर्थ स्थान है। यह अलकनंदा तथा भागीरथी नदियों के संगम पर स्थित है। इसी संगम स्थल के बाद से नदी को 'गंगा' के नाम से जाना जाता है। संगम स्थल पर स्थित होने के कारण तीर्थराज प्रयाग की भाँति ही देवप्रयाग का भी धार्मिक महत्त्व अत्यधिक है। हिन्दुओं के सर्वश्रेष्ठ धार्मिक स्थलों में से देवप्रयाग एक है।

स्थिति

देवप्रयाग समुद्र की सतह से 830 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। इसका सबसे निकटतम शहर ऋषिकेश है, जो यहाँ से 70 किलोमीटर दूर है। यह स्थान उत्तराखण्ड राज्य के पंच प्रयागों में से एक माना जाता है।

नामकरण

देवप्रयाग भगवान श्रीराम से जुड़ा विशिष्ट तीर्थ है। देवप्रयाग को लेकर एक बड़ी प्राचीन कथा है, जिसके अनुसार- सत युग में देव शर्मा नामक एक ब्राह्मण ने यहाँ बड़ा कठोर तप किया, इससे प्रसन्न होकर भगवान विष्णु ने उसे वरदान दिया कि यह स्थान कालान्तर में तुम्हारे नाम से प्रसिद्ध होगा। तभी से इसे 'देव प्रयाग' कहा जाने लगा।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. रावण वध के बाद देवप्रयाग में श्रीराम ने की थी तपस्या-राम ने किया प्रायश्चित (हिन्दी)। । अभिगमन तिथि: 27 जुलाई, 2014।
  2. पंचप्रयागों में एक देवप्रयाग (हिन्दी) श्री न्यूज। अभिगमन तिथि: 27 जुलाई, 2014।

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=देवप्रयाग&oldid=571131" से लिया गया