चेंचु  

चेंचु दक्षिण भारत के लोग, जिनकी संख्या लगभग 24,000 है, और ये आंध्र प्रदेश राज्य के निवासी हैं। ये लोग क्षेत्र की द्रविड़ भाषा, तेलुगु की एक भिन्न बोली बोलते हैं।[1]

  • इनके घास-फूस से बने गोल घर, क्षेत्र में रहने वाले अन्य लोगों के घरों से अलग होते हैं।
  • कुछ चेंचु अपना भोजन शिकार द्वारा और जंगलों से खाद्य पदार्थ, विशेषकर कंद एकत्र करके प्राप्त करते हैं।
  • धनुष और बाण, धातु के शीर्ष वाली खुदाई की छड़, कुल्हाड़ी और साधारण चाकू इनके प्रमुख हथियार होते हैं।
  • चेंचु भारत के मूल निवासियों में से हैं, जो प्रभावशाली हिन्दू सभ्यता से सबसे ज़्यादा अलग-थलग हैं।
  • इनके रीति-रिवाज बहुत कम और साधारण हैं; धार्मिक और राजनीतिक विशिष्टताएं भी नगण्य हैं।
  • चेंचु जनजाति में छोटे संयुग्मी परिवारों का बाहुल्य है, जिनमें महिलाओं को पुरुषों के बराबर दर्जा हासिल है और वे परिपक्वता के बाद ही विवाह करती हैं।
  • अधिकांश चेंचु बढ़ते कृषक समुदाय के कारण कृषि तथा वन मज़दूर बन गए हैं और अपनी घुमंतू, भोजन एकत्र करने वाली जीवन शैली से बाहर आ गए है।
  • इनमें से अधिकांश लोगों ने हिन्दू देवी-देवताओं और प्रथाओं को अपना लिया है और उन्हें अपेक्षाकृत ऊंची जातीय हैसियत प्राप्त है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. भारत ज्ञानकोश, खण्ड-2 |लेखक: इंदु रामचंदानी |प्रकाशक: एंसाइक्लोपीडिया ब्रिटैनिका प्राइवेट लिमिटेड, नई दिल्ली और पॉप्युलर प्रकाशन, मुम्बई |संकलन: भारतकोश पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 172 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=चेंचु&oldid=501842" से लिया गया