एरछ  

मुग़ल काल में इस स्थान पर एक दुर्ग था यहाँ वीर छत्रसाल के पिता चंपतराय ने औरंगजेब के ज़माने में मुग़ल सेनाओं से युद्ध करते हुए अपने ठहरने के लिए स्थान बनाया था।[1]



टीका टिप्पणी और संदर्भ

  • ऐतिहासिक स्थानावली | पृष्ठ संख्या= 111| विजयेन्द्र कुमार माथुर | वैज्ञानिक तथा तकनीकी शब्दावली आयोग | मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार


  1. देखें बुंदेलखण्ड का संक्षिप्त इतिहास- गोरेलाल पुरोहित-पृ. 160

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=एरछ&oldid=628562" से लिया गया