भूर  

भूर से तात्पर्य एक विशेष प्रकार के बालू के ढेरों से है। ये ढेर बाँगर भूमि क्षेत्र में कहीं-कहीं पर ही पाये जाते हैं।

  • प्राचीन काल में ये ढेर जल बहाव से बन गये थे।
  • गंगा और राम गंगा के प्रवाह क्षेत्र में ये ढेर अधिकांशत: पाये जाते हैं।
  • गंगा दोआब में असामान्य भू-आकृतिक लक्षण वाले वायुनिर्मित निक्षेपों को भूर नाम से जाना जाता हे।
  • उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद तथा बिजनौर ज़िलों में गंगा के पूर्वी तट पर ये भूर निक्षेप बलुई मिट्टी के उच्च प्रदेश का निर्माण करते हैं।
  • इनकी उत्पत्ति अभिनूतन काल (प्लायोसीन) में मानी जाती है।
  • इनसे ही मध्य दोआब क्षेत्र में विशेष भूर मिट्टी का निर्माण हुआ है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=भूर&oldid=272816" से लिया गया