खादर  

खादर उस भू-भाग को कहा जाता है, जहाँ प्रति वर्ष नदियों की बाढ़ का पानी पहुँचता रहता है।

  • इस भाग की मिट्टी सदैव नवीन होती रहती है।
  • मिट्टी की नवीनता के कारण भूमि की ऊपजाऊ शक्ति में निरन्तर वृद्धि होती है।
  • खादर के भू-भाग की यह विशेषता है कि यहाँ मिट्टी सदैव पोषक तत्त्वों से भरपूर रहती है।
  • नदियों की बाढ़ के साथ बहकर आई मिट्टी इस भू-भाग को पूरी तरह से उपजाऊ बना देती है।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=खादर&oldid=229184" से लिया गया