उत्कल तटीय मैदान  

उत्कल तटीय मैदान उड़ीसा के तटीय क्षेत्र का भाग है। यह मैदान गंगा के डेल्टाई मैदान से लेकर महानदी के डेल्टा तक फैला हुआ है। इसी तटीय मैदान में प्रसिद्ध चिल्का झील भी आती है। यह झील भारत की सबसे बड़ी झील है। लगभग 41, 400 वर्ग किमी में फैला यह मैदान पूर्व में बंगाल की खाड़ी, दक्षिण में आंध्र का मैदान, उत्तर में गंगा का निचला मैदान और पश्चिम में पूर्वी घाट की पहाड़ियों से घिरा है। उत्कल मैदान तटीय निम्न भूमि है, जिसमें मुख्यत: महानदी डेल्टा के निक्षेप और समुद्री अवसाद हैं तथा वह लगभग 76 मीटर की ऊचांई पर पूर्वी घाट से मिलता है। इस मैदानी क्षेत्र की तटरेखा लगभग सीधी है।

इतिहास

तीसरी शताब्दी ई.पू. में सम्राट अशोक के काल में इस क्षेत्र के हिस्से के रूप में इस क्षेत्र का विवरण धौली (जहां अशोक ने कलिंग का प्रख्यात युद्ध किया था) के शिलालेखों में भी मिलता है। सातवाहन, कार तथा पूर्वी गंगा के प्राचीन वंशों ने इस क्षेत्र पर क्रमश: शासन किया और और 16वीं शताब्दी के उत्तरार्ध में इस क्षेत्र पर मुसलमानों और बाद में मराठों का अधिकार हो गया। 1804 में अंग्रेजों का मैदानी क्षेत्र पर नियंत्रण हो गया।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  • पुस्तक- भारत ज्ञानकोश खण्ड-1 | पृष्ठ संख्या- 207 | एन्साइक्लोपीडिया ब्रिटैनिका (इंडिया) प्राइवेट लिमिटेड, नई दिल्ली

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=उत्कल_तटीय_मैदान&oldid=592779" से लिया गया