मानसूनी गर्त  

मानसूनी गर्त का अभिप्राय अंतर उष्णकटिबंधीय क्षेत्र से है, जो गंगा के मैदानों में होता है।

  • जुलाई के महीने में यह उष्णकटिबंधीय क्षेत्र 20-25 डिग्री अक्षांशों में स्थापित हो जाता है।
  • इसे ही मुख्यत: 'मानसूनी गर्त' कहा जाता है।
  • यह गर्त उत्तरी और उत्तर-पश्चिमी भारत में प्रमुख भूमिका निभाता है।
  • इसकी सहायता से निम्न तापीय वायुदाब विकसित होने में मदद मिलती है।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=मानसूनी_गर्त&oldid=271893" से लिया गया