Notice: Undefined offset: 0 in /home/bharat/public_html/gitClones/live-development/bootstrapm/Bootstrapmskin.skin.php on line 41
पा (फ़िल्म) - भारतकोश, ज्ञान का हिन्दी महासागर

पा (फ़िल्म)  

पा (फ़िल्म)
Paa 2.jpg
निर्देशक आर. बाल्की
निर्माता सुनील मनचंदा
कहानी आर. बाल्की
कलाकार अमिताभ बच्चन, अभिषेक बच्चन, विद्या बालन, परेश रावल, अरुंधती नाग
प्रसिद्ध चरित्र ऑरो
संगीत इलिया राजा
गीतकार स्वानंद किरकिरे
गायक अमिताभ बच्चन, सुनिधि चौहान, शिल्पा राव, श्रवण राठौर, शान
छायांकन पी.सी. श्रीराम
संपादन अनिल नायडू
वितरक रिलायंस बिग पिक्चर्स, ए.बी. कॉर्प., मैड एंटरटेन्मेंट लि.
प्रदर्शन तिथि 4 दिसंबर, 2009
अवधि 2 घंटे 24 मिनट
भाषा हिन्दी
पुरस्कार राष्ट्रीय पुरस्कार सर्वश्रेष्ठ हिंदी फ़िल्म
बजट 15 करोड़ रुपये (अनुमानित)
देश भारत
मेकअप क्रिस्टेन टिंस्ले, डामिनी टील

पा एक प्रसिद्ध हिन्दी फ़िल्म है, जिसके निर्देशक आर. बाल्की हैं। 'चीनी कम' के बाद निर्देशक बाल्की ने अमिताभ बच्चन के साथ दूसरी फ़िल्म बनाई है, जो लीक से हटकर थी। बाल्की अमिताभ को एक नये अंदाज़ में दर्शकों के सामने लाये। यह पात्र सिर्फ़ अमिताभ ही बखूबी निभा सकते थे। बाल्की ने अमिताभ को एक नया रूप दिया है। इस फ़िल्म में 70 साल के बच्चन ने एक 12 साल के 'प्रोजोरिया' नामक बीमारी से पीड़ित बच्चे का पात्र निभाया, जिसमें व्यक्ति अपनी उम्र से कहीं ज़्यादा का दिखाई देता है। अमिताभ को अभिषेक बच्चन के बेटे के रूप में दिखाया गया। मात्र 15 कड रुपये की लागत से बनने वाली इस फ़िल्म ने 'सर्वश्रेष्ठ हिंदी फ़िल्म' का राष्ट्रीय पुरस्कार भी अपने नाम किया। निर्देशक बाल्की की फ़िल्म 'पा' को ख़ूब सराहा गया। 'पा' 'ए.बी. कॉर्प. लिमिटेड' की होम प्रोडक्शन फ़िल्म है।

कथानक

विदेश मे पढ़ते अमोल आप्टे (अभिषेक बच्चन) और विद्या (विद्या बालन) को कुछ मुलाक़ातों के बाद प्यार हो जाता है। अमोल एक बड़े राजनेता का बेटा है और खुद भी नेता बनना चाहता है। वहीं विद्या डॉक्टरी की पढ़ाई पूरी करना चाहती है। प्यार मे दोनों की नज़दीकियाँ कम होती हैं और अंत मे विद्या अमोल के बच्चे की माँ बनने वाली है, पर अमोल को अपने कैरियर की दौड़ में कोई रुकावट नहीं चाहिए। विद्या बच्चे को जन्म देती है, जो 'प्रोजोरिया' नाम की लाइलाज बीमारी से पीड़ित है।

12 साल की उम्र में 60 साल के बूढ़े जैसा दिखने वाला विद्या का बेटा ऑरो (अमिताभ बच्चन) दूसरे सामान्य बच्चों जैसा ही है। स्कूल में दूसरे बच्चों के साथ क्रिकेट खेलना, घर में नानी माँ के साथ मौज मस्ती करना ऑरो की ज़िंदगी का हिस्सा है। ऑरो को हर वक़्त मन ही मन अपने पा की तलाश है। वहीं, दूसरी और अमोल अब सांसद बन चुका है। स्कूल में एक प्रतियोगिता के दौरान ऑरो की मुलाक़ात अमोल आप्टे से होती है, जो स्कूल के कार्यक्रम में ऑरो को पुरस्कार देते हैं। अमोल से मिलने के बाद ऑरो को उसमें अपनापन लगता है और दोनों एक दूसरे के नजदीक आते है, लेकिन ऑरो को अभी मालूम नहीं है कि अमोल ही उसके पा है। फ़िल्म की कहानी का नयापन और पेश करने का रोचक अंदाज दर्शकों को बांधकर रखता है।[1]

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. पा (Paa Movie) (हिंदी)। । अभिगमन तिथि: 4 फ़रवरी, 2012।
  2. Paa (2009) (हिंदी)। । अभिगमन तिथि: 3 फ़रवरी, 2012।
  3. Paa (2009) (हिंदी)। । अभिगमन तिथि: 4 फ़रवरी, 2012।
  4. अमिताभ बच्चन को फ़िल्म "पा" के लिए सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का पुरस्कार (हिंदी)। । अभिगमन तिथि: 4 फ़रवरी, 2012।
  5. राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार (हिंदी)। । अभिगमन तिथि: 4 फ़रवरी, 2012।
  6. स्क्रीन अवॉर्ड में पा का जलवा (हिंदी)। । अभिगमन तिथि: 4 फ़रवरी, 2012।
  7. फ़िल्मफ़ेयर में (हिंदी)। । अभिगमन तिथि: 4 फ़रवरी, 2012।
और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=पा_(फ़िल्म)&oldid=593898" से लिया गया