Notice: Undefined offset: 0 in /home/bharat/public_html/gitClones/live-development/bootstrapm/Bootstrapmskin.skin.php on line 41
दोस्ती (1964 फ़िल्म) - भारतकोश, ज्ञान का हिन्दी महासागर

दोस्ती (1964 फ़िल्म)  

दोस्ती (1964 फ़िल्म)
फ़िल्म दोस्ती का पोस्टर
निर्देशक सत्येन बोस
निर्माता ताराचंद बड़जात्या
कहानी बाण भट्ट
संवाद गोविन्द मूनिस
कलाकार सुधीर कुमार, सुशील कुमार, बेबी फ़रीदा, लीला चिटनिस, अभि भट्टाचार्य, उमा राजू, संजय ख़ान, लीला मिश्रा, नाना पालसिकर।
प्रसिद्ध चरित्र रामू तथा मोहन
संगीत लक्ष्मीकांत प्यारेलाल
गीतकार मजरूह सुल्तानपुरी
गायक मोहम्मद रफ़ी, लता मंगेशकर
प्रसिद्ध गीत 'राही मनवा दु:ख की चिन्ता', 'जाने वालों ज़रा', 'चाहूंगा मैं तुझे', 'मेरा तो जो भी क़दम है'।
वितरक राजश्री पिक्चर्स
प्रदर्शन तिथि 6 नवम्बर, 1964
अवधि 163 मिनट
भाषा हिन्दी
अन्य जानकारी यह फ़िल्म एक अपाहिज लड़के और एक अंधे लड़के के बीच दोस्ती की कहानी को लेकर आगे बढ़ती है। सुशील कुमार और सुधीर कुमार के अभिनय ने इस फ़िल्म को सबसे ख़ास बना दिया था।

दोस्ती भारतीय सिने इतिहास की सबसे प्रसिद्ध और सफल हिन्दी फ़िल्मों में से एक है। यह फ़िल्म 6 नवम्बर, 1964 को प्रदर्शित हुई थी। इस फ़िल्म के निर्देशक सत्येन बोस तथा निर्माता 'राजश्री प्रोडक्शन' के ताराचंद बड़जात्या थे। उस समय इस फ़िल्म को छ: 'फ़िल्म फ़ेयर पुरस्कार' मिले थे। फ़िल्म के मुख्य कलाकार सुशील कुमार तथा सुधीर कुमार थे। फ़िल्म में संजय ख़ान भी अहम भूमिका में थे। यह उनकी पहली फ़िल्म थी। इसके अलावा बेबी फ़रीदा, उमा राजू, लीला मिश्रा, नाना पालसिकर, लीला चिटनिस और अभि भट्टाचार्य जैसे कलाकार भी थे। यह फ़िल्म उस वर्ष की दस सबसे ज़्यादा प्रसिद्ध रही फ़िल्मों में से एक थी। आज की भाषा में कहें तो बॉक्स ऑफ़िस पर ब्लॉक बस्टर फ़िल्म थी।

विषय

यह फ़िल्म एक अपाहिज लड़के और एक अंधे लड़के के बीच दोस्ती की कहानी को लेकर आगे बढ़ती है। घर के बड़े बुजुर्गों ने यदि ये फ़िल्म देखी हो, तो वे बता सकते हैं कि कैसे पहली बार स्कूल में पढ़ते हुए बच्चों को अभिभावकों ने जोर देकर ये फ़िल्म दिखाई थी। दोस्ती की कहानी तो पहले भी कई फ़िल्मों में आई थी, लेकिन सुशील कुमार और सुधीर कुमार के अभिनय ने इस फ़िल्म को सबसे ख़ास बना दिया था। बहुत कम लोगों को मालूम होगा कि फ़िल्म में माउथ ऑर्गन का जबरदस्त इस्तेमाल हुआ था और यह आर. डी. बर्मन का कमाल था। फ़िल्म में संवाद गोविंद मूनिस के थे। संगीत लक्ष्मीकांत प्यारेलाल का और गीत मजरूह सुल्तानपुरी के थे।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=दोस्ती_(1964_फ़िल्म)&oldid=514242" से लिया गया