Notice: Undefined offset: 0 in /home/bharat/public_html/gitClones/live-development/bootstrapm/Bootstrapmskin.skin.php on line 41
बसन्त बहार (1956 फ़िल्म) - भारतकोश, ज्ञान का हिन्दी महासागर

बसन्त बहार (1956 फ़िल्म)  

बसन्त बहार (1956 फ़िल्म)
बसन्त बहार
निर्देशक राजा नवाथे
कलाकार भारत भूषण, निम्मी, कुमकुम, मनमोहन कृष्णा
संगीत शंकर-जयकिशन
गायक भीमसेन जोशी और मन्ना डे
प्रसिद्ध गीत ‘केतकी गुलाब जुही चम्पक बन फूले'
प्रदर्शन तिथि 1956
भाषा हिंदी
अन्य जानकारी फ़िल्म 'बसन्त बहार' में मन्ना डे के गाये गीत 'मील के पत्थर' सिद्ध हुए।

बसन्त बहार (अंग्रेज़ी: Basant Bahar) वर्ष 1956 में प्रदर्शित संगीत-प्रधान फ़िल्म थी। जिसके संगीतकार शंकर-जयकिशन थे। राग आधारित गीतों की रचना फ़िल्म के कथानक की माँग भी थी और उस दौर में इस संगीतकार जोड़ी के लिए चुनौती भी। शंकर-जयकिशन ने शास्त्रीय संगीत के दो दिग्गजों- पण्डित भीमसेन जोशी और सारंगी के सरताज पण्डित रामनारायण को यह ज़िम्मेदारी सौंपी। पण्डित भीमसेन जोशी ने फ़िल्म के गीतकार शैलेन्द्र को राग बसन्त की एक पारम्परिक बन्दिश गाकर सुनाई और शैलेन्द्र ने 12 मात्रा के ताल पर शब्द रचे।

विवरण

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=बसन्त_बहार_(1956_फ़िल्म)&oldid=620297" से लिया गया