न्यायकन्दली  

प्रशस्तपाद के पदार्थ धर्म संग्रह पर श्रीधराचार्य द्वारा रचित व्याख्या न्यायकन्दली के नाम से प्रख्यात है। न्यायकन्दली पर कई उपटीकाएँ लिखी गईं, जिनमें जैनाचार्य राजशेखर द्वारा रचित न्यायकन्दली पंजिका और पद्मनाभ मिश्र द्वारा रचित न्यायकन्दली सार प्रमुख हैं।

परिचय

न्यायकन्दली के पुष्पिका भाग में श्रीधर ने अपने देश-काल के सम्बन्ध में कुछ विवरण दिया है। तदनुसार उनके जन्मस्थान के सम्बन्ध में यह माना जाता है कि वह बंगाल प्रान्त में आधुनिक हुगली ज़िले के राढ़ क्षेत्र के भूरिश्रेष्ठ नामक गाँव में उत्पन्न हुए थे। उनका समय 991 ई. माना जाता है। श्रीधर के पिता का नाम बलदेव तथा माता का नाम अब्बोका था। उनके संरक्षक तत्कालीन शासक का नाम नरचन्द्र पाण्डुदास था। श्रीधर ने उनके अनुरोध पर ही 991 ई. में न्यायकन्दली की रचना की थी। कार्ल एच. पाटर ने भी इस तथ्य का उल्लेख किया है। श्रीकृष्ण मिश्र ने अपने प्रबोधचन्द्रोदय नाटक में राठापुरी और भूरिश्रेष्ठिक का उल्लेख किया, जो कि महामहोपाध्याय फणिभूषण तर्कवागीश प्रभृति विद्वानों के अनुसार श्रीधर के निवासस्थान से ही सम्बद्ध है।[1]

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. न्यायपरिचय पृ. 72.
  2. क) विस्तरस्त्वद्वयसिद्धौ द्रष्टव्य:, न्या. क. पृ. 11, 197
    (ख) मीमांसासिद्धान्तरहस्यं तत्त्वप्रबोधे कथितमस्माभि:, न्या. क. पृ. 347
    (ग) प्रपंचितश्चायमर्थोऽस्माभिस्तत्त्वप्रबोधे तत्त्वसंवादिकायांचेति, न्या. क. पृ. 187
    (घ) तस्य विषयापहारनान्तरीयकं स्यादिति कृतं ग्रन्थविस्तरेण संग्रहटीकायाम्, न्या. क., पृ. 277
  3. Encyclopaidia of Indian Philosophies: Polter, P.485
  4. सटीक प्रशस्तपादभाष्यविज्ञापन पृ. 19
  5. उपदिष्टा गुरुवरैरस्पृष्टा वर्धमानाद्यै:। कन्दल्या: सारार्थास्तन्यन्ते पद्मनाभेन॥ न्यायकन्दलीसार:, पृ. 4

संबंधित लेख


और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=न्यायकन्दली&oldid=600825" से लिया गया