कर्नाला  

कर्नाला महाराष्ट्र राज्य के रायगढ़ ज़िले में स्थित है, जो अपने ऐतिहासिक क़िलों के लिए प्रसिद्ध है। यह समुद्र की सतह से लगभग 475 किलोमीटर की ऊँचाई पर स्थित है और चारों ओर से घने हरे जंगलों और एक ओर से ऊंचे पहाड़ों से घिरा हुआ है।

इतिहास

कर्नाला तुग़लक़ वंश के शासन काल के दौरान कोंकण ज़िले की राजधानी था, जिस पर बाद के समय में निज़ामशाह ने अधिकार कर लिया था। निज़ामशाह भारत के एक अन्य ऐतिहासिक अहमदनगर का संस्थापक था। कर्नाला का क़िला निज़ामी शासक को पुर्तग़ालियों के साथ दोस्ती होने के कारण उपहारस्वरूप मिला था। कुछ समय बाद ही इस क्षेत्र में अंग्रेज़ 'ईस्ट इंडिया कंपनी' की स्थापना हुई, क्योंकि उन्हें कर्नाला के भौगोलिक स्थान के महत्व का अच्छी तरह से पता था।

प्राकृतिक सौन्दर्य

यहाँ का प्राकृतिक सौन्दर्य बहुत ही मनोहारी है। कर्नाला का पक्षी अभ्यारण्य इसे प्रकृति प्रेमियों और पक्षी प्रेमियों के बीच प्रसिद्ध बनाता है। यह अभ्यारण्य लगभग 150 प्रकार के पक्षियों की घरेलू प्रजातियों और 37 प्रवासी पक्षियों का घर है। यह एक प्रमुख पर्यटन स्थल भी है, जहाँ पर ट्रेकिंग की व्यवस्था भी है। इस पर्यटन स्थल का भ्रमण वर्ष में कभी भी किया जा सकता है। बरसात हो या गर्मी, यहाँ का मौसम अत्यधिक लुभावना और स्वास्थ्यप्रद रहता है।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=कर्नाला&oldid=311692" से लिया गया