महाव्युत्पत्ति  

महाव्युत्पति संस्कृत-तिब्बती द्विभाषिक पारिभाषिक कोश है। इसमें 285 अध्यायों में लगभग नौ हजार संस्कृत शब्दों के तुल्य तिब्बती शब्द दिये गये हैं।

  • बौद्ध संप्रदाय के पारिभाषिक शब्दों का अर्थ देने के साथ-साथ पशु-पक्षियों, वनस्पतियों और रोगों आदि के पर्यायों का इसमें संग्रह है।
  • इसमें लगभग 9000 शब्द संकलित है। दूसरी ओर, मुहावरों, नामधातु के रूपों और वाक्यों के भी संकलन है।
  • यह विश्व का सबसे पहला द्विभाषी शब्दकोश है।
  • महाव्युत्पति की रचना तिब्बत में आठवीं शताब्दी के अन्तिम भाग एवं नौवीं शताब्दी के आरम्भिक भाग में हुई थी।
  • इसका निर्माण संस्कृत के बौद्ध धर्मग्रन्थों का तिब्बती भाषा में अनुवाद करने में सुविधा प्रदान करने के उद्देश्य से किया गया था।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=महाव्युत्पत्ति&oldid=647555" से लिया गया