चूल वंश  

चूल वंश पालि भाषा में रचित श्रीलंका के राजाओं का इतिहास है।

  • इसमें चौथी शताब्दी से लेकर 1815 तक के काल का इतिहास है।
  • इसकी रचना अनेकों वर्षों में अनेकों भिक्षुओं के माध्यम से सम्पन्न हुई। अतः इसमें अनेक तरह की काव्य-शैलियाँ मिलतीं हैं।
  • सामान्य मान्यता यह है कि यह महावंश का उत्तर ग्रंथ है।
पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=चूल_वंश&oldid=647594" से लिया गया