अमरेली  

अमरेली महाराष्ट्र में बड़ौदा से 139 मील तथा अहमदाबाद से 132 मील दक्षिण पश्चिम में थेबी नामक एक छोटी नदी पर स्थित इसी नाम के जिले का प्रमुख नगर है (स्थिति 20° 36¢ उ.अ. एवं 71° 15¢ पू. दे.)। यह ऐतिहासिक महत्व का स्थान हे जो प्राचीन काल में अमरवल्ली कहलाता था। इसके चतुर्दिक्‌ निर्मित प्राचीर अब विनष्टपाय है। भावनगर-पोरबंदर-रेलवे के चितल स्टेशन से दस मील दूर होने के कारण यातायात की असुविधा है, परंतु अब पक्की सड़कों द्वारा चारों ओर से संबंध स्थापित हो गया है। यहाँ पहले हाथ कर घे से बने वस्त्रों का व्यवसाय प्रमुख था, परंतु कारखानों की प्रतिद्वंद्विता के कारण दिन-प्रति-दिन घट रहा है। रँगाई एवं चाँदी का काम भी यहाँ होता है। यह नगर काठियावाड़ की कपास तथा बिनौले की बड़ी मंडियों में से एक है। यहाँ बिनौले निकालने के कारखाने हैं। यह जिले का प्रमुख प्रशासनिक एवं शैक्षणिक केंद्र है।[1]




पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हिन्दी विश्वकोश, खण्ड 1 |प्रकाशक: नागरी प्रचारिणी सभा, वाराणसी |संकलन: भारत डिस्कवरी पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 203 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=अमरेली&oldid=629739" से लिया गया