कुवांशी  

  • कुवांशी गुजरात के मोरवी शहर से 25 किलोमीटर की दूरी पर स्थित एक छोटा सा गाँव है।
  • कुवांशी गाँव में 4,000 वर्ष पुरानी सभ्यता के अवशेष प्राप्त हुए हैं।
  • पुराविदों के अनुसार कुवांशी में सैन्धव सभ्यता के अवशेष व एक बन्दरगाह का पता चला है।
  • लोथल बन्दरगाह से जहाँ मध्य-पूर्वी देशों के साथ व्यापार होता था, वहीं कुवांशी बन्दरगाह से पश्चिम एशिया और अफ़गानिस्तान के साथ सम्बन्ध थे।
  • कुवांशी के मिट्टी के बर्तनों के अवशेष तथा खनिज पदार्थों से निर्मित सामग्री से स्पष्ट होता है कि सौराष्ट्र में हड़प्पा काल में हस्तकला एवं वास्तुकला का अच्छा विकास हुआ।
  • यहाँ से सोने के आभूषण और नीलम भी प्राप्त हुई है, जो केवल अफ़गानिस्तान में ही मिलती थीं।
  • पुराविदों की मान्यता है कि नीलमणि अफ़गानिस्तान से आयात की जाती होगी और तैयार माल को पश्चिम एशिया में भेजा जाता होगा।
  • कुछ समय पूर्व ही ओमान में रास-एल-जुनाएद के निकट करवाये गये उत्खनन में हड़प्पा युग की निर्मित सामग्री मिली हैं।
  • यह अनुमान किया जाता है कि बहुमूल्य धातुओं की मालाओं और मोतियों को कुवांशी में तैयार करके ओमान भेजा जाता होगा।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=कुवांशी&oldid=490440" से लिया गया