उपरकोट  

उपरकोट दुर्ग

उपरकोट गुजरात राज्य के जूनागढ़ ज़िले में स्थित है।

  • उपरकोट में संभवत: गुप्तकालीन कई गुफाएं है जो दोमंजिली हैं।
  • गुफाओं के स्तंभों पर उभरी हुई धारियाँ अंकित हैं जो गुप्तकालीन गुहास्तंभी की विशिष्ट अलंकरण शैली थी।
  • गुर्जर नरेश सिद्धराज के शासनकाल में यहाँ खंगार राजपूतों का एक दुर्ग था और दुर्ग के निकट अड़ीचड़ी बाव नाम की एक बावड़ी थी जो आज भी विद्यमान है।
  • इस बावड़ी के संबंध में यहाँ एक गुजराती कहावत भी प्रचलित है-

'अड़ीचड़ी बाव अने नौगुण कुआ जेणो न जोयो तो जीवितो मुयो'

अर्थात् अड़ीचड़ी बाव और नौगुण कुँआ जिसने नहीं देखा वह जीवित ही मृत है।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  • ऐतिहासिक स्थानावली | पृष्ठ संख्या= 99| विजयेन्द्र कुमार माथुर | वैज्ञानिक तथा तकनीकी शब्दावली आयोग | मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार


बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=उपरकोट&oldid=628221" से लिया गया