दभोई  

दभोई क़िला

दभोई भारत के गुजरात राज्य में बड़ोदरा (बड़ौदा) ज़िले में बड़ोदरा नगर से 16 मील दक्षिण-पूर्व में स्थित एक प्रसिद्ध नगर है। दभोई का प्राचीन नाम 'दर्भावती' या 'दर्भवती' था। यहाँ ऐतिहासिक दृष्टि से महत्त्वपूर्ण एक मन्दिर के प्राचीन अवशेष भी प्राप्त हुए हैं।

  • दभोई भड़ौच से 25 मील की दूरी पर स्थित है।
  • पुरानी व्यापारिक मंडी के रूप में भी दभोई प्रसिद्ध है।
  • 10वीं शती के एक मंदिर के अवशेष यहाँ से कुछ वर्ष पूर्व मिले थे।
  • उत्खनन कार्य निर्मल कुमार बोस तथा अमृत पांड्या द्वारा किया गया था।
  • दभोई या दर्भावती का जैन तीर्थ के रूप में उल्लेख जैन स्तोत्र ग्रंथ 'तीर्थमाला चैत्यवंदन' में है-
'श्री तेजल्लविहार निंबतटके चंद्रे च दर्भावते।'
  • दभोई सड़कों और रेलमार्गों का महत्त्वपूर्ण केंद्र है।
  • यहाँ चावल, मक्का, बाजरा और कपास का व्यवसाय अधिक होता है।
  • कपास से बिनौला निकालने, शराब बनाने, लकड़ी पर चित्रों की खुदाई करने और सूती कपड़े बुनने के उद्योग आदि भी यहाँ हैं।
  • दभोई अपने ताँबे और पीतल के सामान के लिए भी बहुत प्रसिद्ध है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=दभोई&oldid=341265" से लिया गया