दिव  

दिव गुजरात के समुद्रतट पर एक महत्त्वपूर्ण व्यापारिक केन्द्र और बन्दरगाह था। पुर्तग़ालियों के अधिकार से मुक्त होने के बाद यह 1961 ई. में स्वतंत्र भारत में सम्मिलित कर लिया गया।

  • 1535 ई. में मुग़ल बादशाह हुमायूँ ने गुजरात पर विजय प्राप्त कर ली थी।
  • उस समय गुजरात का सुल्तान बहादुरशाह (1523-1537 ई.) था।
  • हुमायूँ से पराजित होने के बाद बहादुरशाह ने भागकर मालवा में शरण ली और पुर्तग़ालियों से मदद मांगी।
  • पुर्तग़ालियों ने इस अवसर का लाभ उठाया और 1535 ई. में दिव पर अधिकार कर लिया।
  • दिव पर पुर्तग़ालियों का अधिकार 400 वर्षों से भी अधिक समय तक बना रहा।
  • भारत की आज़ादी के बाद 1961 ई. में दिव स्वाधीन भारतीय गणराज्य में सम्मिलित कर लिया गया।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=दिव&oldid=243775" से लिया गया