बालाथल  

बालाथल, उदयपुर

बालाथल एक ऐतिहासिक ग्राम जो उदयपुर (राजस्थान) नगर से 42 किमी दक्षिण-पूर्व में वल्लभ नगर तहसील में बालाथल स्थित है।

  • बालाथल ग्राम के पूर्वी छोर पर एक बड़ा टीला है जो लगभग 5 एकड़ क्षेत्र में फैला हुआ है।
  • इस टीले में उत्खनन का कार्य 1993 में वी. एन. मिश्रा के नेतृत्व में हुआ।
  • यहाँ से हड़प्पा संस्कृति के समान ही मृदभाण्ड पाए गए हैं। अतः अनुमान है कि हड़प्पा के लोगों से इनका निकट सम्पर्क रहा होगा।
  • इस क्षेत्र के लोगों ने पत्थर और मिट्टी की ईंटों के बड़े-बड़े मकान बनवा लिए थे।
  • भारत के अन्य ताम्रपाषाणयुगीन स्थलों पर केवल मिट्टी के छोटे मकानों के ही प्रमाण मिले हैं।
  • यहाँ से परिष्कृत मृद्भाण्डों में प्यालियाँ और कटोरियाँ हैं।
  • यहाँ से परवर्ती हड़प्पायुगीन लोहे के औजार भी प्रभूत मात्रा में पाये गये हैं।
  • लोहा गलाने की भट्टियाँ भी प्राप्त हुई हैं।
  • पुरातत्त्ववेत्ताओं ने बालाथल की ताम्रपाषाणयुगीन सभ्यता के मध्य भाग का समय 2350 ई. पू. के आसपास माना है।
  • यदि यह मान लिया जाए तो ऐसा लगता है कि 2700 ई.पू. आस-पास बालाथल में ताम्रपाषाणुयगीन लोगों ने स्थिर जीवन शैली अपना ली होगी।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=बालाथल&oldid=287220" से लिया गया