धवला टीका  

आचार्य गुणधर कृत 'कसाय-पाहुड' एवं आचार्य पुष्पदन्त एवं भूतबलि कृत 'षट्खण्डागम' –ये दो जैनधर्म के ऐसे विशाल एवं अमूल्य-सिद्धान्त ग्रन्थ हैं, जिनका सीधा सम्बन्ध तीर्थंकर महावीर स्वामी की द्वादशांग वाणी से माना जाता है। दिगम्बर जैन परम्परा के अनुसार शेष श्रुतज्ञान इससे पूर्व ही क्रमश: लुप्त व छिन्न-भिन्न हो गया था।[1] द्वादशांग के अंतिम अंग दृष्टिवाद के अन्तर्गत परिकर्म, सूत्र, प्रथमानुयोग, पूर्वगत और चूलिका ये 5 प्रभेद हैं। इनमें पूर्वगत नामक चतुर्थ प्रभेद के पुन: 14 भेद हैं। उनमें से द्वितीय भेद अग्रायणीय पूर्व[2] से षट्खण्डागम का उद्भव हुआ है। इस शौरसेनी प्राकृत-भाषाबद्ध कर्मग्रन्थ की टीका का नाम धवला है। यह धवला टीका संस्कृत मिश्रित शौरसेनी प्राकृत भाषाबद्ध है।

  • सम्प्रति दिगम्बर जैन परम्परा के कर्मग्रन्थों में धवलत्रय अर्थात् 'धवल, जयधवल तथा महाधवल' का नाम सर्वोपरि है, जिनका सम्मिलित प्रमाण 72000+60,000+30,000=162,000 श्लोक प्रमाण हैं। इनका प्रकाशन हिन्दी अनुवाद सहित कुल 16+16+7=39 पुस्तकों में, जिनके कुल पृष्ठ 16,341 हैं, हुआ है। इस सानुवाद 16,341 पृष्ठ प्रमाण परमागम में जैन धर्म सम्मत विशाल व मौलिक कर्मसिद्धान्त का विवेचन है। इनमें सर्वप्रथम आचार्य पुष्पदन्त एवं भूतबलि कृत षट्खण्डागम पर लिखित विशाल टीका धवला का यहाँ परिचय प्रस्तुत है।

धवला टीका शक सं0 738 कार्तिक शुक्ला 13, ता0 8-10-816 ई. बुधवार को पूर्ण हुई थी। इसका प्रमाण 60,000 श्लोक है। यह 16 भागों में तदनुसार 7067 पृष्ठों में 20 वर्षों की दीर्घ अवधि (सन् 1938 से 1958) में प्रकाशित हुई हैं[3]

  • इसके लेखक आचार्य वीरसेन स्वामी हैं। इनका जीवनकाल शक-संवत् 665 से 745 है[4]। आपके गुरु ऐलाचार्य हैं। अथवा मतान्तर से आर्यनन्दि हैं। ये सिद्धान्त, छन्द, ज्योतिष, व्याकरण और न्याय आदि शास्त्रों में पारंगत मनीषी थे। *आचार्य जिनसेन के शब्दों में 'वीरसेन साक्षात केवली के समान सकल विश्व के पारदर्शी थे। उनकी सर्वार्थगामिनी नैसर्गिक प्रज्ञा को देखकर सर्वज्ञ की सत्ता में किसी मनीषी को शंका नहीं रही थी। विद्वान् लोग उनके ज्ञान-किरणों के प्रसाद को देखकर उन्हें प्रज्ञाश्रमणों में श्रेष्ठ आचार्य और श्रुतकेवली कहते थे। वे वृन्दारक, लोक-विज्ञ, वाचस्पतिवत् वाग्मी, सिद्धान्तोपनिबन्धकर्ता, उनकी धवला टीका भुवन-व्यापिनी है। वे शब्दब्रह्म गणधरमुनि, विश्वनिधि के द्रष्टा, सूक्ष्म वस्तु को जानने में साक्षात् सर्वज्ञ थे।[5]' इनके द्वारा रचित धवला टीका की भाषा प्राकृत-संस्कृत मिश्रित है। उदाहरणार्थ प्रथम पुस्तक में टीका का लगभग तृतीय भाग प्राकृत में है और शेष बहुभाग संस्कृत में है। इसमें उद्धृत पद्यों की संख्या 221 में से 17 संस्कृत में तथा शेष प्राकृत में है। एवमेव आगे के भाग में भी जानना चाहिए। इस प्रकार संस्कृत-प्राकृत इन दोनों भाषाओं के मिश्रण से मणि-प्रवालन्यायानुसार यह रची गई हैं[6]। इसकी प्राकृत भाषा शोरसैनी है, जिसमें कुन्दकुन्दादि आचार्यों के ग्रन्थ पाये जाते हैं। ग्रन्थ की प्राकृत अत्यन्त परिमार्जित और प्रौढ़ है। संस्कृत भाषा भी अत्यन्त प्रौढ़, प्रात्र्जल तथा न्यायशास्त्रों जैसी होकर भी कर्म-सिद्धान्त प्ररूपक है।
  • ग्रन्थ की शैली सर्वत्र शंका उठाकर उसके समाधान करने की रही हे। जैसे प्रथम पुस्तक में ही लगभग 600 शंका समाधान है। टीका में आचार्य वीरसेन सूत्र-विरुद्ध व्याख्यान नहीं करते, परस्पर विरुद्ध दो सूत्रों में समन्वयात्मक दृष्टिकोण अपनाते हुए दोनों के संग्रह का उपदेश देते हैं। कहीं विशेष आधारभूत सामग्री के सद्भाव में एक का ग्रहण तथा दूसरे का निषेध करने से भी नहीं चूके हैं। देशामर्शक सूत्रों का सुविस्तृत व्याख्यान करते हैं, किसी विवक्षित प्रकरण में प्रवाह्यमान-अप्रवाह्यमान उपदेश भी प्रदर्शित करते हैं। किन्दीं सूक्ष्म विषयों पर उपदेश के अभाव में प्रसंग-प्राप्त विषय की भी अप्ररूपणा करते हैं, तो कहीं उपदेश प्राप्त कर जान लेने की सम्प्रेरणा करते हैं। सर्वत्र विषय का विस्तार सहित न्याय आदि शैली से वर्णन इसमें उपलब्ध है। यह भारतीय वाङमय की अद्भुत कृति है।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. गो0 क0 प्रस्ता0 पृ0 3 (ज्ञानपीठ)
  2. धवल 6/6, धवल 13/206
  3. धवल 6/10, धवल 13/255-56।
  4. धवल पु0 6, पृष्ठ 10, धवल 13, पृ0 357-68, धवल पु0 15, पृ0 6
  5. धवल पु0 6, पृ0 11, धवल 14, पृ0 359-60
  6. धवल पु0 6, पृ0 12, धवल 13, पृ0 362
  7. धवल पु0 6, पृ0 13, धवल 13, पृ0 362
  8. धवल पु0 6, पृ0 13, धवल 13, पृ0 387
  9. धवल 6/13, धवल 13/389
  10. Dधवल 7, पृ0 15, जीवकाण्ड। जीव प्रबोधिनी टीका 68, त वार्थसार 8/37-40
  11. धवल पु0 6 पृ0 77-78, पृ0 7, पृष्ठ 15
  12. धवल 6/77-78।
  13. धवल 7, पृष्ठ 15, जीवकाण्ड। जीव प्र0 टीका 68 तथा त वार्थसार 8/37-40।
  14. धवल 6 पृष्ठ 1 से 201, धवल 13, पृ0 205 से 392, गोम्मटसार कर्मकाण्ड, पंचसंग्रह
  15. षट्खण्डागम परिशीलन, भारतीय ज्ञानपीठ पृ0 द353-354।
  16. धवल 3/98, 3/99, 3/100
  17. धवला पु0 4, प्रस्ता0 में 'धवला का गणितशास्त्र' नामक लेख।
  18. धवल 3/88-89, 199-200, 4/402-3, धवल 10/214-15, 444, 278, धवल 13/221-22, धवल 13/309-10, 337 आदि
  19. देखो धवल 3/33-38, 5-116-19, धवल 9/131-33, 318, धवल 13/318-19 आदि
  20. षट्खण्डागम परिशीलन पृष्ठ 572
  21. षट्खण्डागम परिशीलन,पृ0 742
  22. धवल 1/77
  23. धवल 1/67
  24. धवल 9/102
  25. धवल 9/124
  26. 1/67 आदि
  27. धवल 9/124
  28. धवल 1/162
  29. धवल 1/62
  30. धवल 1/67

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=धवला_टीका&oldid=612429" से लिया गया