अष्ट प्रतिहार्य और अष्टमंगल  

अष्ट प्रतिहार्य भगवान के होते है, जो केवल ज्ञान के बाद प्रकट होते हैं।

  • अष्ट प्रतिहार्य हैं- अशोक वृक्ष, चौसंठ चंवर, भामंडल, देव दुंदुभी वादन, तीन छत्र, पुष्प वृष्टि, दिव्य ध्वनि और सिंहासन। ये मंदिर में भगवान की मूर्ति के पास रखे जाते हैं।
  • आचार्य मानतुंग ने भक्तामर स्तोत्र के श्लोक 28 से 35 में इन अष्ट प्रतिहार्य का अद्भुत वर्णन किया है।
  • अष्टमंगल मांगलिक द्रव्य है, जो किसी भी शुभ कार्य मे रखे जाने चाहिए। इन्हें घर में भी रख सकते हैं। ये हैं- भृंगार-झारी, बीजना (पंखा), कलश, दर्पण, चंवर, स्वास्तिक, ध्वजा और छत्र।[1]
  • अभिषेक पाठ में भगवान को विराजमान करते समय निम्न श्लोक बोलते हैं, जिसमें इनका वर्णन है-

भृंगार-चामर-सुदर्पण-पीठ- कुम्भ-ताल-ध्वजातप-निवारक-भूषिताग्रे।
वर्धस्व-नंद-जय-पाठपदावलीभिः, सिंहासने जिन! भवन्तमहं श्रयामी।।

पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. अष्ट प्रतिहार्य और अष्टमंगल (हिंदी) acharyagyansagar.in। अभिगमन तिथि: 17 मई, 2020।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=अष्ट_प्रतिहार्य_और_अष्टमंगल&oldid=646509" से लिया गया