आगम  

आगम एक संस्कृत शब्द है, जिसका अर्थ होता है- "ज्ञान का अर्जन"। यह शास्त्र साधारणतया 'तंत्रशास्त्र' के नाम से प्रसिद्ध है। प्रसंगानुसार 'आगम' भारत के किसी भी धर्म, मत या परंपरा के धर्मग्रंथ या अधिकृत उद्धरण से संदर्भित हो सकता है। कभी-कभी वर्तमान जीवन या पूर्व जीवन में किसी व्यक्ति द्वारा सचेतन या प्राकृतिक रूप से अर्जित ज्ञान के लिए भी 'आगम' शब्द का उल्लेख किया जाता है। निगमागममूलक भारतीय संस्कृति का आधार जिस प्रकार निगम ( =वेद) है, उसी प्रकार आगम ( =तंत्र) भी है। दोनों स्वतंत्र होते हुए भी एक दूसरे के पोषक हैं। निगम कर्म, ज्ञान तथा उपासना का स्वरूप बतलाता है तथा आगम इनके उपायभूत साधनों का वर्णन करता है। इसीलिए वाचस्पति मिश्र ने 'तत्ववैशारदी' (योगभाष्य की व्याख्या) में 'आगम' को व्युत्पत्ति इस प्रकार की है :-

आगच्छंति बुद्धिमारोहंति अभ्युदयनि:श्रेयसोपाया यस्मात्‌, स आगम:।

आगम का मुख्य लक्ष्य 'क्रिया' के ऊपर है, तथापि ज्ञान का भी विवरण यहाँ कम नहीं है। 'वाराहीतंत्र' के अनुसार आगम इन सात लक्षणों से समवित होता है :-

  1. सृष्टि,
  2. प्रलय,
  3. देवतार्चन,
  4. सर्वसाधन,
  5. पुरश्चरण,
  6. षट्कर्म, (=शांति, वशीकरण, स्तंभन, विद्वेषण, उच्चाटन तथा मारण)
  7. साधन तथा ध्यानयोग।
'महानिर्वाण' तंत्र के अनुसार कलियुग में प्राणी मेध्य (पवित्र) तथा अमेध्य (अपवित्र) के विचारों से बहुधा हीन होते हैं और इन्हीं के कल्याणार्थ महादेव ने आगमों का उपदेश पार्वती को स्वयं दिया। इसीलिए कलियुग में आगम की पूजापद्धति विशेष उपयोगी तथा लाभदायक मानी जाती है:-
कलौ आगमसम्मत:।
भारत के नाना धर्मों में आगम का साम्राज्य है। जैन धर्म में मात्रा में न्यून होने पर भी आगमपूजा का पर्याप्त समावेश है। बौद्ध धर्म का वज्रयान इसी पद्धति का प्रयोजक मार्ग है। वैदिक धर्म में उपास्य देवता की भिन्नता के कारण इसके तीन प्रकार है:-
  1. वैष्णव आगम (पाँचरात्र तथा वैखानस आगम),
  2. शैव आगम (पाशुपत, शैवसिद्धांत, त्रिक आदि) तथा
  3. शाक्त आगम

द्वैत, द्वैताद्वैत तथा अद्वैत की दृष्टि से भी इनमें तीन भेद माने जाते हैं। अनेक आगम वेद मूलक हैं, परंतु कतिपय तंत्रों के ऊपर बाहरी प्रभाव भी लक्षित होता है। विशेषत: शाक्तागम के कौलाचार के ऊपर चीन या तिब्बत का प्रभाव पुराणों में स्वीकृत किया गया है। आगमिक पूजा विशुद्ध तथा पवित्र भारतीय है। 'पंच मकार' के रहस्य का अज्ञान भी इसके विषय में अनेक भ्रमों का उत्पादक है।[1](ब.अ.)

व्याख्या

'ब्राह्मणवाद' या हिन्दू धर्म में 'आगम' आमतौर पर वेद और स्मृति को कहा जाता है। बौद्ध धर्म में यह 'त्रिपिटक'; जैन धर्म में 'अंग' और कुछ उपांग की ओर इंगित करता है। लेकिन इस शब्द का अधिक निकट संबंध उन धार्मिक-दार्शनिक परंपराओं से है, जो किसी समय में वेद आधारित परंपरा से अलग माने गए हैं। इसके फलस्वरूप कभी-कभी निगम, श्रुति और वेदों से आगम की भिन्नता को भी दर्शाया जाता है। विशेष रूप से 'आगम' मध्यकालीन भारत के हिन्दू तांत्रिक लेखों में से किसी वर्ग से संबद्ध हो सकता है, जो शैव मत के अनुयायियों का पवित्र साहित्य है। इस प्रकार की आगम रचनाओं को प्राय: अधिक सैद्धांतिक तथा गूढ़ शास्त्रों से अलग समझा जाता है। शैव मत में ये सर्वप्रमुख हैं और संकीर्ण अर्थों में ये वैष्णव संहिताओं तथा शाक्त तंत्रों के समान हैं।[2] ये ज़्यादातर भगवान शिव और उनकी पत्नी पार्वती के बीच संवाद के रूप में है। इनका आविर्भाव संभवत: आठवीं शताब्दी में हुआ था। वैचारिक सुविधा के लिए विद्वान् इन्हें चार शैव मतों में बांटते हैं-

  1. शैवसिद्वांत का संस्कृत मत
  2. तमिल शैव
  3. कश्मीरी शैव
  4. वीरशैव (जो 'लिंगायत' भी कहलाता है)

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. सं.ग्रं.-आर्थर एवेलेन: शक्ति ऐंड शास्त्र, गणेश ऐंड कं., मद्रास, 1952; चटर्जी: काश्मीर शैविज्म, श्रीनगर, 1916; बलदेव उपाध्याय: भारतीय दर्शन, काशी,1957।
  2. भारत ज्ञानकोश, खण्ड-1 |लेखक: इंदु रामचंदानी |प्रकाशक: एंसाइक्लोपीडिया ब्रिटैनिका (इण्डिया) प्राइवेट लिमिटेड, नई दिल्ली |संकलन: भारतकोश पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 116 |
  3. हिन्दी विश्वकोश, खण्ड 1 |प्रकाशक: नागरी प्रचारिणी सभा, वाराणसी |संकलन: भारत डिस्कवरी पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 350-52 |

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=आगम&oldid=630483" से लिया गया