हरिविजय सूरी  

हरिविजय सूरी प्रसिद्ध जैन आचार्य थे। मुग़ल बादशाह अकबर उनका बहुत आदर करता था। जैन साधु हरिविजय कुछ वर्ष तक अकबर के दरबार में रहे। अकबर ने उन्हें सम्मानस्वरूप 'जगद्गुरु' की उपाधि प्रदान की थी।

पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=हरिविजय_सूरी&oldid=641684" से लिया गया