राजुलमंडगिरि  

राजुलमंडगिरि एक ऐतिहासिक स्थान है। जो आन्ध्र प्रदेश के पट्टीकोंडा तालुका, ज़िला कुरनूल में स्थित है। 1953-1954 में इस स्थान से मौर्य सम्राट अशोक का एक शिलालेख प्राप्त हुआ था।

  • यह शिलालेख इस ग्राम में स्थित रामलिंगेश्वर के शिवमंदिर की चट्टान पर उत्कीर्ण है।
  • इस अभिलेख में 15 पक्तियां हैं किंतु वह खंडितावस्था में हैं।
  • भारतीय पुरातत्त्व विभाग के अनुसार यह धर्मलिपि येरागुड़ी की 'अमुख्य' धर्मलिपि की एक प्रतिलिपि जान पड़ती है जो अब से 25 वर्ष पहले ज्ञात हुई थी।


टीका टिप्पणी और संदर्भ


माथुर, विजयेन्द्र कुमार ऐतिहासिक स्थानावली, द्वितीय संस्करण-1990 (हिन्दी), भारत डिस्कवरी पुस्तकालय: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर, पृष्ठ संख्या-784।

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=राजुलमंडगिरि&oldid=232871" से लिया गया