पिल्लालमर्री  

Icon-edit.gif इस लेख का पुनरीक्षण एवं सम्पादन होना आवश्यक है। आप इसमें सहायता कर सकते हैं। "सुझाव"
बरगद का वृक्ष, पिल्लालमर्री

पिल्लालमर्री आंध्र प्रदेश के नालागोंडा में स्थित एक ऐतिहासिक स्थान है। यह मन्दिर स्तंभों पर सुन्दर नक़्क़ाशी और दीवारों पर मनोरम चित्रकारी के लिए प्रसिद्ध है। मंदिर पुरातत्त्व-विभाग के संरक्षण में हैं।

  • यहाँ पर काकतीय नरेशों के समय के प्राचीन मन्दिर हैं, जो अब पुरातत्त्व-विभाग के संरक्षण में हैं।
  • यहाँ के मन्दिरों के स्तंभों पर सुन्दर नक़्क़ाशी और दीवारों पर मनोरम चित्रकारी की गई है।
  • यह स्थान वारंगल की राजसभा के प्रसिद्ध राजकवि वीरभद्रकवि का जन्म स्थान है।
  • यहाँ से कई अभिलेख भी प्राप्त हुए हैं, जिनमें गणपति नामक राजा का कन्नड़-तेलुगु अभिलेख[1] और राजा रुद्रदेव का अभिलेख[2] उल्लेखनीय हैं।
  • पिल्लालमर्री स्थान से काकतीय नरेशों के अनेक सिक्के भी प्राप्त हुए हैं।
पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1130 शक सं. 1203ई.
  2. 1117 शक सं.

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=पिल्लालमर्री&oldid=317743" से लिया गया