फ़र्रुख़ाबाद  

महल, फ़र्रुख़ाबाद

फ़र्रुख़ाबाद उत्तर प्रदेश राज्य में गंगा के बाएँ किनारे पर स्थित प्राचीन नगर और रेलों का जंक्शन है। फ़र्रुख़ाबाद, उत्तर प्रदेश राज्य का प्रमुख ज़िला है। फ़र्रुख़ाबाद जैन मंदिरों के लिए विशेष रुप से प्रसिद्ध है। इसके अतिरिक्त यह काम्पिल्य, रामेश्‍वरनाथ मंदिर, संकिसा, कम्पिलपुर और नीव करोरी आदि के लिए भी जाना जाता है।

इतिहास और भूगोल

ऐतिहासिक दृष्टि से भी इस जगह का काफ़ी महत्व रहा है। फ़र्रुख़ाबाद की स्थापना एक स्थानीय स्वतंत्र मुग़ल सूबेदार मुहम्मद ख़ां बंगश ने 1714 में की थी। फ़र्रुख़ाबाद के एक क़स्बा फ़तेहगढ़ की स्थापना भी लगभग 1714 में हुई, जब फ़र्रुख़ाबाद के शासक ने यहां एक किले का निर्माण करवाया; 1857 के भारतीय विद्रोह के दौरान यहां नरसंहार की घटना हुई थी। फ़र्रुख़ाबाद व फ़तेहगढ़ एक महत्त्वपूर्ण सड़क तथा रेल जंक्शन है और यह निर्माण केंद्र तथा कृषि मंडी भी है। इस नगरपालिका का क्षेत्र गंगा की कछारी मैदान के एक हिस्से पर स्थित है और यह गंगा की निचली नहर से सिंचित होता है। यह ज़िला बादौन और शाहजहाँपुर के उत्तर में, हरदोई ज़िले के पूर्व में, कन्नौज ज़िले के दक्षिण और एटा तथा मैनपुरी ज़िले के पश्चिम से घिरा हुआ है। गंगा और रामगंगा यहाँ की प्रमुख नदियाँ हैं।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=फ़र्रुख़ाबाद&oldid=526117" से लिया गया