जैन धर्म  

(जैन से पुनर्निर्देशित)


जैन धर्म
जैन धर्म का प्रतीक चिह्न
विवरण जैन धर्म अर्थात् 'जिन' भगवान का धर्म। 'जैन धर्म' भारत की श्रमण परम्परा से निकला धर्म और दर्शन है।
जैन एवं जिन 'जैन' उन्हें कहते हैं, जो 'जिन' के अनुयायी हों। 'जिन' शब्द बना है 'जि' धातु से। 'जि' यानी जीतना। 'जिन' अर्थात् जीतने वाला। जिन्होंने अपने मन को जीत लिया, अपनी वाणी को जीत लिया और अपनी काया को जीत लिया हो, वे 'जिन' कहलाते है।
प्राचीनता जैन धर्म के अनुयायियों की मान्यता है कि उनका धर्म 'अनादि'[1] और सनातन है।
शाखाएँ दिगम्बर और श्वेताम्बर
तीर्थंकर जैन धर्म में 24 तीर्थंकर माने गए हैं, जिन्हें इस धर्म में भगवान के समान माना जाता है। वर्धमान महावीर, जैन धर्म के प्रवर्तक भगवान श्री ऋषभनाथ[2] की परम्परा में 24वें तीर्थंकर थे।
धर्म ग्रंथ भगवान महावीर ने सिर्फ़ प्रवचन ही दिए थे। उन्होंने किसी ग्रंथ की रचना नहीं की थी, लेकिन बाद में उनके गणधरों ने उनके अमृत वचन और प्रवचनों का संग्रह कर लिया। यह संग्रह मूलत: प्राकृत भाषा में है।
जैन अनुश्रुति मथुरा में विभिन्न कालों में अनेक जैन मूर्तियाँ मिली हैं, जो जैन संग्रहालय मथुरा में संग्रहीत हैं।
अन्य जानकारी जैन परम्परा में 63 शलाका महापुरुष माने गए हैं। पुराणों में इनकी कथाएँ तथा धर्म का वर्णन आदि है। प्राकृत, संस्कृत, अपभ्रंश तथा अन्य देशी भाषाओं में अनेक पुराणों की रचना हुई है।

जैन धर्म भारत की श्रमण परम्परा से निकला धर्म और दर्शन है। 'जैन' उन्हें कहते हैं, जो 'जिन' के अनुयायी हों। 'जिन' शब्द बना है 'जि' धातु से। 'जि' यानी जीतना। 'जिन' अर्थात् जीतने वाला। जिन्होंने अपने मन को जीत लिया, अपनी वाणी को जीत लिया और अपनी काया को जीत लिया, वे हैं 'जिन'। जैन धर्म अर्थात् 'जिन' भगवान का धर्म। वस्त्र-हीन बदन, शुद्ध शाकाहारी भोजन और निर्मल वाणी एक जैन-अनुयायी की पहली पहचान है। यहाँ तक कि जैन धर्म के अन्य लोग भी शुद्ध शाकाहारी भोजन ही ग्रहण करते हैं तथा अपने धर्म के प्रति बड़े सचेत रहते हैं।

प्राचीनता

जैन धर्म के अनुयायियों की मान्यता है कि उनका धर्म 'अनादि'[3] और सनातन है। सामान्यत: लोगों में यह मान्यता है कि जैन सम्प्रदाय का मूल उन प्राचीन पंरपराओं में रहा होगा, जो आर्यों के आगमन से पूर्व इस देश में प्रचलित थीं। किंतु यदि आर्यों के आगमन के बाद से भी देखा जाये तो ऋषभदेव और अरिष्टनेमि को लेकर जैन धर्म की परंपरा वेदों तक पहुँचती है।
अन्तिम अनुबद्ध (केवली) श्री 1008 जम्बूस्वामी
महाभारत के युद्ध के समय इस संप्रदाय के प्रमुख नेमिनाथ थे, जो जैन धर्म में मान्य तीर्थंकर हैं। ई. पू. आठवीं सदी में 23वें तीर्थंकर पार्श्वनाथ हुए, जिनका जन्म काशी (वर्तमान बनारस) में हुआ था। काशी के पास ही 11वें तीर्थंकर श्रेयांसनाथ का जन्म हुआ था। इन्हीं के नाम पर सारनाथ का नाम प्रचलित है। जैन धर्म में श्रमण संप्रदाय का पहला संगठन पार्श्वनाथ ने किया था। ये श्रमण वैदिक परंपरा के विरुद्ध थे। महावीर तथा बुद्ध के काल में ये श्रमण कुछ बौद्ध तथा कुछ जैन हो गए थे। इन दोनों ने अलग-अलग अपनी शाखाएँ बना लीं। भगवान महावीर जैन धर्म के 24वें तीर्थंकर थे, जिनका जन्म लगभग ई. पू. 599 में हुआ और जिन्होंने 72 वर्ष की आयु में देहत्याग किया। महावीर स्वामी ने शरीर छोडऩे से पूर्व जैन धर्म की नींव काफ़ी मजबूत कर दी थी। अहिंसा को उन्होंने जैन धर्म में अच्छी तरह स्थापित कर दिया था। सांसारिकता पर विजयी होने के कारण वे 'जिन' (जयी) कहलाये। उन्हीं के समय से इस संप्रदाय का नाम 'जैन' हो गया।[4]

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. अनंत समय पहले का
  2. श्री आदिनाथ
  3. अनंत समय पहले का
  4. 4.0 4.1 ऐसे जन्मा जैन धर्म (हिन्दी)। । अभिगमन तिथि: 26 फ़रवरी, 2013।
  5. जैन धर्म- इतिहास की नजर में (हिन्दी)। । अभिगमन तिथि: 26 फ़रवरी, 2013।
  6. जिनसेनाचार्य कृत महापुराण- पर्व 16,श्लोक 155
  7. जैन धर्म ग्रंथ और पुराण (हिन्दी)। । अभिगमन तिथि: 26 फ़रवरी, 2013।
  8. खेती
  9. लिखना-पढ़ना, शिक्षण
  10. रक्षा हेतु तलवार, लाठी आदि चलाना
  11. विभिन्न प्रकार का व्यापार करना
  12. आचार्य समन्तभद्र, स्वयम्भुस्तोत्र, श्लोक 2|
  13. जिनसेन, महापुराण, 12-95
  14. पउमचरियं, 3-68|
  15. आ. समन्तभद्र, स्वयम्भू स्तोत्र, श्लोक 5|
  16. मदनकीर्ति, शासनचतुस्त्रिंशिका, श्लोक 6, संपा. डॉ. दरबारी लाल कोठिया।
  17. मानतुङ्ग, भक्तामर आदिनाथ स्तोत्र, श्लोक 1, 25 |
  18. मानतुङ्ग, भक्तामर आदिनाथ स्तोत्र, श्लोक 1, 25 |
  19. अद्यतन- दिनांक 20 मार्च 2013
  20. श्री आदिनाथ
  21. ऋषभादिमहावीरान्तेभ्य: स्वात्मोपलब्धये।
    धर्मतीर्थंकरेभ्योऽस्तु स्याद्वादिभ्यो नमोनम:॥ अकलंक, लघीयस्त्रय, 1
  22. आप्तपरीक्षा, कारिका 16

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=जैन_धर्म&oldid=613406" से लिया गया