गंगा सागर  

(गंगासागर से पुनर्निर्देशित)


गंगा सागर गंगा और सागर के संगम पर स्थित प्राचीन तीर्थ है।

  • कपिल मुनि का, जिनके शाप से सागर के साठ सहस्त्र पुत्र भस्म हो गये थे। आश्रम इसी स्थान पर था- 'तत: पूर्वोत्तरेदेशे समुद्रस्य महीपते, विदार्य पातालमथ सगरात्मजा:, अपश्यंत हयं तत्र विचरंत महीतले, कपिलं च महात्मानं तेरोराशिमनुत्तमम्'।[1]
  • गंगा सागर का पुन: उल्लेख इस प्रकार है- 'समासाद्य समुद्रं चगंगया सहितो नृप:, पूरयामास वेगेन समुद्रं वरुणालयम्'-[2] अर्थात् भगीरथ ने साथ समुद्र तक पहुंचकर वरुणालय समुद्र को गंगा के पानी से भर दिया। इस तरह सगर के पुत्रों के भस्मावशेष गंगा के जल से पवित्र हुए।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. महाभारत वन पर्व 107, 28-29
  2. महाभारत वन पर्व 109, 17-18

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=गंगा_सागर&oldid=613280" से लिया गया