रामसनेही सम्प्रदाय  

रामसनेही सम्प्रदाय के प्रवर्तक महात्मा रामचरन थे। इस सम्प्रदाय की स्थापना 1650 ई. के लगभग हुई थी। रामचरन ने अनेक बानियाँ तथा पद रचे हैं।

  • रामसनेही सम्प्रदाय के तीसरे गुरु दूल्हाराम ने 10,000 पद एवं 4,000 दोहे रचे थे।
  • इस सम्प्रदाय के प्रार्थना मंदिर 'रामद्वारा' कहलाते हैं, जो अधिकांशत: राजस्थान में पाये जाते हैं।
  • पूजा में गान तथा शिक्षा सम्मिलित है।
  • रामसनेही सम्प्रदाय का मुख्य शहर शाहपुर है, किंतु ये जयपुर, उदयपुर तथा अन्य स्थानों में भी रहते हैं।
  • सम्प्रदाय के अनुयायी गृहस्थों में नहीं हैं। अत: यह सम्प्रदाय अवनति पर है और केवल कुछ साधुओं का वर्ग मात्र रह गया है।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हिन्दू धर्मकोश |लेखक: डॉ. राजबली पाण्डेय |प्रकाशक: उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान |पृष्ठ संख्या: 554 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=रामसनेही_सम्प्रदाय&oldid=500190" से लिया गया