वडकलै संप्रदाय  

वडकलै संस्कृत में उत्तर-कालार्य, हिंदू संप्रदाय श्रीवैष्ण्व के दो उपसंप्रदायों में से एक है और दूसरा संप्रदाय तेन्कलै है।

धर्मग्रंथ

हालांकि दोनों समूह संस्कृत तथा तमिल, दोनों धर्मग्रंथों का उपयोग करते हैं, वडकलै समूह संस्कृत पाठों पर अधिक निर्भर करता है, जैसे; वेद, उपनिषद तथा धार्मिक काव्य भगवद्गीता। इन दोनों के बीच असहमति मूलतः ईश्वर की अनुकंपा के प्रश्न पर है।

वडकलै का मत

वडकलै का मानना है कि मुक्ति प्राप्त करने के इच्छुक भक्त को कुछ प्रयास करना चाहिए, इसके लिये वे बंदर के बच्चे के उदाहरण का उपयोग करते हैं, जो ढोए जाने पर अपनी मां से मज़बूती से चिपका रहता है। इसीलिए उनके सिद्धांत को मर्कट न्याय कहते हैं। धार्मिक कर्तव्यों को पूरा किए जाने की भी अपेक्षा की जाती है। दोनों समूह विष्णु की पत्नी श्री (लक्ष्मी) के बारे में भी भिन्न विचार रखते हैं। वडकलै का मत है कि वह स्वामी से अभिन्न हैं तथा आध्यात्मिक मुक्ति के लिए आवश्यक अनुकंपा प्रदान कर सकती हैं।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. इसके विपरीत तेन्कलै को दक्षिणी विचारधारा

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

और पढ़ें
"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=वडकलै_संप्रदाय&oldid=469503" से लिया गया