माध्व सम्प्रदाय  

माध्व सम्प्रदाय
मध्वाचार्य
विवरण 'माध्व सम्प्रदाय' एक वैष्णव सम्प्रदाय है। माध्व वैष्णव एक संगठित समूह में नहीं हैं बल्कि बिखरे हुए हैं।
संस्थापक मध्वाचार्य
स्थापना समय इस सम्प्रदाय की स्थापना तेरहवीं शताब्दी के प्रारम्भिक दशकों में हुई।
सिद्धान्त विष्णु सर्वोच्च तत्त्व है, जगत् सत्य है, ब्रह्म और जीव का भेद वास्तविक है, जीव ईश्वराधीन है, जीवों में तारतम्य है, आत्मा के आन्तरिक सुखों की अनुभूति ही मुक्ति है, शुद्ध और निर्मल भक्ति ही मोक्ष का साधन है, प्रत्यक्ष, अनुमान और शब्द तीन प्रमाण हैं, वेदों द्वारा ही हरि जाने जा सकते हैं।
विशेष मध्वाचार्य द्वारा स्थापित यह सम्प्रदाय भागवत पुराण पर आधृत होने वाला पहला सम्प्रदाय है।
संबंधित लेख मध्वाचार्य, वैष्णव सम्प्रदाय, चैतन्य महाप्रभु
अन्य जानकारी मध्वाचार्य ने जीवन की वास्तविकता समझते हुए उसे व्यावहारिक और रुचिपूर्ण बनाने का आधार अपने द्वैतवाद में प्रस्तुत किया। इनके अनुसार दो पदार्थ या तत्त्व प्रमुख हैं, जो स्वतंत्र और अस्वतन्त्र हैं।

माध्व सम्प्रदाय भारत के वैष्णव सम्प्रदायों में से एक है। माध्व वैष्णव एक संगठित समूह में नहीं हैं बल्कि बिखरे हुए हैं। उनके महत्त्वपूर्ण मन्दिर न तो वृन्दावन में हैं और न ज़िले में कहीं अन्य ही हैं। इस सम्प्रदाय के संस्थापक मध्वाचार्य दक्षिण के थे। उनका जन्म सन् 1199 ई. में हुआ था। जिस मन्दिर में वे रहते थे, वह अब भी 'उडीपी' नामक स्थान में विद्यमान है। वहाँ उन्होंने एक चमत्कारपूर्ण कृष्ण की मूर्ति स्थापित की थी, जो महाभारत के योद्धा अर्जुन ने बनाई बताते हैं। यह मूर्ति द्वारका से किसी जहाज़ में रख दी गई थी और मालाबार तट पर वह टकरा गया और नष्ट हो गया था।

मध्वाचार्य के ग्रन्थ

कहा जाता है मध्वाचार्य ने नौ वर्ष की अल्पायु में श्रीमद्भागवत गीता का भाष्य लिखा था। उनके ग्रंथों के नाम हैं-

  1. उपनिषद
  2. गीता
  3. ब्रह्मसूत्र के भाष्य
  4. गीता तात्पर्य निर्णय
  5. न्याय विवरण
  6. तंत्रसार संग्रह
  7. विष्णु तत्त्व निर्णय
  8. श्रीकृष्णामृत महार्णव
  9. मायावाद खंडन
  10. प्रपंच मिथ्यावाद खंडन

सम्प्रदाय की स्थापना

मध्वाचार्य द्वारा स्थापित यह सम्प्रदाय भागवत पुराण पर आधृत होने वाला पहला सम्प्रदाय है। इसकी स्थापना तेरहवीं शताब्दी के प्रारम्भिक दशकों में हुई। मध्वाचार्य की मृत्यु के 50 वर्ष बाद जयतीर्थ इस सम्प्रदाय के प्रमुख आचार्य हुए। इनके भाष्य, जो मध्व के ग्रन्थों पर रचे गये हैं, सम्प्रदाय के सम्मानित ग्रन्थ हैं। चौदहवीं शताब्दी के उत्तरार्ध मे विष्णुपुरी नामक माध्व संन्यासी ने भागवत के भक्ति विषयक सुन्दर स्थलों को चुनकर 'भक्तिरत्नावली' नामक ग्रन्थ लिखा। यह भागवत भक्ति का सर्वश्रेष्ठ परिचय देता है। लोरिय कृष्णदास ने इसका बगंला में अनुवाद किया है।

प्रचार-प्रसार

एक परवर्ती माध्व सन्त ईश्वरपुरी ने चैतन्यदेव को इस सम्प्रदाय में दीक्षित किया। इस नये नेता (चैतन्य) ने माध्व मत का अपनी दक्षिण की यात्रा में अच्छा प्रचार किया (1509-11)। उन्होंने माध्वों को अपनी शिक्षा एवं भक्तिपूर्ण गीतों से प्रोत्साहित किया। इन्होंने उक्त सम्प्रदाय में सर्वप्रथम संकीर्तन एवं नगर कीर्तन का प्रचार किया। चैतन्यदेव की दक्षिण यात्रा के कुछ हि दिनों बाद कन्नड़ भाषा में गीत रचना आरम्भ हुई। कन्नड़ गायक भक्तों में मुख्य थे, पुरन्दरदास। प्रसिद्ध माध्व विद्वान् व्यासराज चैतन्य के समकालीन थे। इन्होंने अनेक ग्रन्थ लिखे जो आज भी पठन-पाठन में प्रयुक्त होते हैं।

अठारहवीं शताब्दी में कृष्णभक्ति विषयक गीत व स्तुतियों की रचना कन्नड़ में 'तिम्मप्पदास' एवं 'मध्वदास' ने की। इसी समय चिदानन्द नामक विद्धान प्रसिद्ध कन्नड़ ग्रन्थ 'हरिभक्ति रसायन' के रचयिता हुए। मध्व के सिद्धान्तों का स्पष्ट वर्णन कन्नड़ काव्य ग्रन्थ 'हरिकथासार' में हुआ है। मध्वमत के अनेक संस्कृत ग्रन्थों का अनुवाद कन्नड़ी में हुआ। माध्व संन्यासी शंकर के दशनामी सन्न्यासियों मे ही परिगणित हैं। स्वयं मध्व एवं उनके मुख्य शिष्य तीर्थ (दसनामियों में से एक) शाखा के थे। परवर्ती अनेक माध्व 'पुरी' एवं 'भारती' शाखाओं के सदस्य हुए।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=माध्व_सम्प्रदाय&oldid=605559" से लिया गया