भ्रम और संदेह  

किसी बात पर ऊहापोह की स्थिति बनी हुई हो, निश्चय न हो पा रहा हो तो 'संदेह' पैदा होता है, जबकि कुछ का कुछ समझ लेना 'भ्रम' है। भ्रम में निश्चित रूप से ग़लत समझ लेने की स्थिति होती है, पर संदेह में निश्चय का अभाव होता है। उदाहरणार्थ- 'मुझे संदेह है कि वह इतना सारा काम आज पूरा कर पाएगा', 'इस भ्रम में मत रहिए कि नेताजी अपना किया वादा निभाएँगे।'



पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=भ्रम_और_संदेह&oldid=619334" से लिया गया