कृति, कृत्ति और कृती  

'कृति', कृत्ति एवं 'कृती' तीनों का अर्थ समान समझ लिया जाता है, पर ऐसा है नहीं। किसी भी तरह की रचना को कहते हैं 'कृति', जबकि 'कृत्ति' है एकदम से अलग चीज 'मृगचर्म'। इसी तरह 'कृती' का भी दोनों शब्दों से दूर-दूर का कोई सम्बंध नहीं है। इसका अर्थ है-निपुण। वर्तनी में जरा सा अंतर, पर अर्थ में जमीन असमान का। थोड़ा भी अनवधान हो तो अर्थ का अनर्थ हो सकता है।

कृति- रचना
कृत्ति- मृगचर्म
कृती- निपुण



पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=कृति,_कृत्ति_और_कृती&oldid=619379" से लिया गया