पी. सी. वैद्य  

पी. सी. वैद्य (अंग्रेजी; P.C. Vedhya, मृत्यु; 12 मार्च, 2010, गुजरात, जूनागढ़) देश के उन गिने-चुने गणितज्ञों में रहे हैं जिन्होंने गणित के क्षेत्र में अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर महत्वपूर्ण व दूरगामी योगदान दिया है। इनका पूरा नाम प्रहलाद चुन्नीलाल वैद्य है। वैद्य साहेब न सिर्फ एक मशहूर गणितज्ञ थे बल्कि एक शिक्षाविद भी थे। वे चाहते थे और प्रयास करते थे कि गणित बच्चों के लिए सुगम व रुचिकर बने। वे मानते थे कि गणित सिखाना शायद कठिन है, मगर गणित सीखना कठिन नहीं है क्योंकि गणित तो हमारी संस्कृति का अंग है।[1]

संक्षिप्त परिचय

गुजरात के जूनागढ़ में जन्मे पी. सी. वैद्य ने बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय से गणित में पीएच.डी. की और गणित सम्बन्धी अनुसन्धान में लग गए। आइंस्टाइन के सापेक्षता सिद्धान्त के क्षेत्र में उनका योगदान युगान्तरकारी माना जाता है। आइंस्टाइन का गुरुत्वाकर्षण का सिद्धान्त कुछ निहायत पेचीदा गणितीय समीकरणों के रूप में व्यक्त होता है। इन समीकरणों को हल करना बहुत कठिन है। 1942 में पी.सी. वैद्य ने एक विधि विकसित की जो ‘वैद्य मेट्रिक’ के नाम से मशहूर है। इसकी मदद से उन्होंने विकिरण उत्सर्जित करने वाले किसी तारे के गुरुत्वाकर्षण के सन्दर्भ में आइंस्टाइन के समीकरणों का हल प्रतिपादित किया। उनके इस काम ने आइंस्टाइन के सिद्धान्त को समझने में मदद दी और ‘वैद्य मेट्रिक’ एक महत्वपूर्ण औज़ार बनकर उभरा।[1]

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 1.2 पी.सी. वैद्य (हिन्दी) www.eklavya.in। अभिगमन तिथि: 13 जुलाई, 2017।

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=पी._सी._वैद्य&oldid=603606" से लिया गया