Notice: Undefined offset: 0 in /home/bharat/public_html/gitClones/live-development/bootstrapm/Bootstrapmskin.skin.php on line 41
पदेन (र) - भारतकोश, ज्ञान का हिन्दी महासागर

पदेन (र)  

हिन्दी भाषा में स्वर और व्यंजन दोनों को मिलाकर वर्ण बनते हैं। एक व्यंजन वर्ण है। हिन्दी भाषा में र का प्रयोग विभिन्न रूपों में होता है। कहीं र का प्रयोग स्वर के साथ होता है तो कहीं बिना स्वर के।[1]

  • 'र' के विभिन्न रूप कौन-कौन से हैं- र, रा, रि, री, रु, रू, रे, रै, रो, रौ !

र + उ = रु !

यहाँ र के साथ छोटी उ की मात्रा है। इनसे बने हुए शब्द - रुद्र, रुचि, रुपये, रुमाल आदि।
र + ऊ = रू !

यहाँ र के साथ बड़ी ऊ की मात्रा है। इनसे बने हुए शब्द- रूप, रूठना, अमरूद, डमरू, रूखा आदि।

  • र का सामान्य रूप-
  1. शब्द की शुरुआत में र का प्रयोग- रमन, रखवाला, रजनी आदि।
  2. शब्द के मध्य में र का प्रयोग - पुरुष, करतब, आराम आदि।
  3. शब्द के अंत में र का प्रयोग - आहार, परिवार, रविवार आदि।
  • इनके अलावा कुछ और रूपों में र का प्रयोग होता है। वह निम्नलिखित हैं-

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हिन्दी भाषा में "र" के कितने रूप होते हैं, उदाहरण सहित समझाएँ? (हिंदी) hi.quora.com। अभिगमन तिथि: 04 जून, 2020।

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=पदेन_(र)&oldid=647018" से लिया गया