ख़िर्क़ा  

ख़िर्क़ा शब्द का प्रयोग भारत के इतिहास में सल्तनत काल के दौरान अधिक होता था।

जिसका अर्थ होता था:

  • शेख़ों द्वारा पहना जाने वाला ऊपरी वस्त्र
  • शब्दकोश में इसका अर्थ है- गुदड़ी, फटा-पुराना लिबास; किसी ऋषि या वली के शरीर से उतरा हुआ लिबास।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=ख़िर्क़ा&oldid=638831" से लिया गया