मांसपेशी  

  • (अंग्रेज़ी:Muscle) मांसपेशी लेख में मानव शरीर से संबंधित उल्लेख है।
  • पेशी तन्त्र के अंतर्गत पेशियों का अध्ययन किया जाता है। पेशी एक संकुचनशील ऊतक होता है।
  • पेशियाँ कंकाल तन्त्र के साथ मिलकर सभी प्रकार की गतियों के लिए उत्तरदायी होती हैं। विभिन्न आन्तरांगों के निर्माण तथा उनके संकुचन एवं प्रसार में मांसपेशियाँ अपना योगदान देती हैं।
  • मांसपेशियों की संकुचन शक्ति शरीर के सभी अंगों के कार्यों में सहायक होती है।
  • मानव शरीर में 639 मांसपेशियाँ पायी जाती हैं। इनमें से 400 पेशियाँ रेखित होती हैं।
  • शरीर में सर्वाधिक पेशियाँ 180 पीठ में पाई जाती हैं।
  • मनुष्य के शरीर का 40 से 50% भाग पेशी ऊतक के द्वारा निर्मित होता है।

 

पेशियों के प्रकार

रचना तथा कार्य की दृष्टि से पेशियाँ तीन प्रकार की होती हैं-

  • ऐच्छिक मांसपेशियाँ
  • अनैच्छिक मांसपेशियाँ
  • हृदय पेशियाँ

ऐच्छिक मांसपेशी

ये पेशियाँ अस्थियों से जुड़ी रहती हैं। अतः इन्हें कंकाल पेशियाँ कहते हैं। ये पेशियाँ मनुष्य की इच्छा शक्ति के नियन्त्रण में रहती हैं। इसीलिए इन्हें ऐच्छिक पेशियाँ कहते हैं। इनमें आड़ी धारियाँ पायी जाती हैं। इसीलिए इन्हें रेखित पेशियाँ कहते हैं। प्रत्येक पेशी कोशिका में अनुदैर्घ्य रूप से व्यवस्थित पेशी तन्तुक पाए जाते हैं। प्रत्येक पेशी कोशिका बहुकेन्द्रीय होती है।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=मांसपेशी&oldid=249230" से लिया गया