ग्रहणी  

ग्रहणी (अंग्रेज़ी:Duodenum) छोटी आन्त्र का लगभग 25 समी लम्बा अपेक्षाकृत कुछ मोटा और अकुण्डलित प्रारम्भिक भाग होता है। इस लेख में मानव शरीर से संबंधित उल्लेख है।

  • ग्रहणी आमाशय के पाइलोरस से प्रारम्भ होकर 'सी' की आकृति बनाता हुआ बाईं ओर को मुड़ा रहता है।
  • ग्रहणी की भुजाओं के बीच में मीसेन्ट्री द्वारा सधा हुआ गुलाबी सा अग्न्याशय होता है।
  • यकृत से पित्तवाहिनी तथा अग्न्याशय में अग्न्याशिक वाहिनी ग्रहणी के निचले भाग में आकर खुलती है। ये क्रमशः पित्तरस तथा अग्न्याशिक रस लाकर ग्रहणी में डालती हैं।
  • पीछे की ओर ग्रहणी मध्यान्त्र में खुलती है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=ग्रहणी&oldid=509735" से लिया गया