सर सुंदर लाल  

सर सुंदर लाल
सर सुंदर लाल
पूरा नाम सर सुंदर लाल
जन्म 21 मई, 1857
जन्म भूमि नैनीताल, उत्तरांचल
मृत्यु 13 फ़रवरी, 1918
मृत्यु स्थान इलाहाबाद
कर्म भूमि भारत
विद्यालय कोलकाता विश्वविद्यालय
प्रसिद्धि विधिवेत्ता और सार्वजनिक कार्यकर्ता
नागरिकता भारतीय
विशेष सुंदर लाल जी इलाहाबाद विश्वविद्यालय के प्रथम भारतीय कुलपति तथा बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय के प्रथम कुलपति थे।
अन्य जानकारी सुंदर लाल के विचार इस संबंध में गोपाल कृष्ण गोखले से मिलते थे। हिन्दू आचार-विचार में निष्ठा रखने वाले सर सुंदर लाल संवैधानिक तरीकों से देश की स्वतंत्रता के समर्थक थे।

सर सुंदर लाल (अंग्रेज़ी: Sir Sunder Lal, जन्म- 21 मई, 1857, नैनीताल, उत्तरांचल; मृत्यु- 13 फ़रवरी, 1918, इलाहाबाद) प्रसिद्ध विधिवेत्ता और सार्वजनिक कार्यकर्ता थे। वे देश के विकास के लिए औद्योगीकरण और शिक्षा प्रसार को उन्नति के लिये आवश्यक समझते थे।

परिचय

सर सुंदर लाल का जन्म उत्तरांचल के नैनीताल जिले के जसपुर नामक स्थान पर 21 मई, 1857 ई. में हुआ था। उनका नागर ब्राह्मण परिवार गुजरात से आकर यहीं बसा था। उन्होंने पहले वकालत की परीक्षा पास की और फिर कोलकाता विश्वविद्यालय से स्नातक बनने के बाद वकालत करने लगे। अपनी प्रतिभा के बल पर उन्होंने इस क्षेत्र में शीघ्र ही बड़ी सफलता अर्जित कर ली। सरकार ने उन्हें 'सर' की उपाधि दी थी।[1]

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. भारतीय चरित कोश |लेखक: लीलाधर शर्मा 'पर्वतीय' |प्रकाशक: शिक्षा भारती, मदरसा रोड, कश्मीरी गेट, दिल्ली |पृष्ठ संख्या: 905 |

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=सर_सुंदर_लाल&oldid=634980" से लिया गया