शिव परिवार  

शिव परिवार

शिव परिवार भगवान शिव का परिवार संसार में उत्कृष्ट परिवार का उदाहरण प्रस्तुत करता हैं। भगवान शिव की पत्नी माता पार्वती हैंं। शिव संसार में पुरुष और प्रकृति के संतुलन को परिभाषित करते हैंं, उनके जयेष्ठ पुत्र का नाम हैं कार्तिकेय, जो संसार में आशूरी शक्तियों का विनाश कर धर्म की पुनः स्थापना करते हैंं कार्तिकेय दक्षिण में मुरुगन के नाम से भी जाने जाते हैं। शिव के दूसरे पुत्र का नाम हैं गणेश, जो 'एकदंताय', 'गजानन', 'विघ्नहर्ता' जैसे कई नामों से जाने जाते हैंं। जिन्हें संसार में शुभता का प्रतीक माना जाता है।

भगवान शिव आदि हैं, अनंत हैं, निर्गुण और निराकार हैंं, शिव को देवों के देव कहते हैंं, इन्हैंं 'महादेव', 'भोलेनाथ', 'शंकर', रुद्र, आदि अन्य नामों से भी जाना जाता है। वैसे तो भगवान शिव वैरागी रूप में भी जाने जाते हैं जिसका मतलब हैं की वो सांसारिक बंधन से मुक्त हैं। लेकिन शिव और शक्ति दोनों एक ही पराशक्ति के रूप होने के कारण दोनों अलग नहीं किन्तु एक ही रूप में पूजे जाते हैं जिसका प्रमाण उनका अर्धनारीश्वर रूप हैं। इसी कारण भगवान शिव ने माता आदिशक्ति (माता पार्वती) से विवाह कर संसार के उद्धार का कार्य किया है। जो ये प्रमाण है की भगवान शिव ने वैराग्य भाव से सांसारिक कर्तव्यों का निर्वाह किया है।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. भगवान शिव का परिवार (हिंदी) Someshwar Mahadev Temple। अभिगमन तिथि: 3 मई, 2016।

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=शिव_परिवार&oldid=551398" से लिया गया