प्रेम वाटिका  

(प्रेमवाटिका से पुनर्निर्देशित)


प्रेम वाटिका भक्तिकालीन कवि रसखान द्वारा लिखी गई एक प्रसिद्ध कृति है। इस कृति की रचना संवत 1671 में की गई थी। रसखान की इस कृति में कुल 53 दोहे हैं। हिन्दी साहित्य में कृष्ण भक्त तथा भक्तिकालीन कवियों में रसखान का महत्त्वपूर्ण स्थान है। उन्हें 'रस की खान (क़ान)' कहा जाता है। इनके काव्य में भक्ति रस, श्रृंगार रस दोनों प्रधानता से मिलते हैं।

साहित्यिक विशेषता

'प्रेम वाटिका' में राधा-कृष्ण को प्रेमोद्यान का मालिन-माली मान कर प्रेम के गूढ़ तत्व का सूक्ष्म निरूपण किया गया है। इस कृति में रसखान ने प्रेम का स्पष्ट रूप में चित्रण किया है। प्रेम की परिभाषा, पहचान, प्रेम का प्रभाव, प्रेम प्रति के साधन एवं प्रेम की पराकाष्ठा 'प्रेम वाटिका' में दिखाई पड़ती है। रसखान द्वारा प्रतिपादित प्रेम लौकिक प्रेम से बहुत ऊँचा है। रसखान ने 53 दोहों में प्रेम का जो स्वरूप प्रस्तुत किया है, वह पूर्णतया मौलिक है। रसखान के काव्य में आलंबन श्रीकृष्ण, गोपियाँ एवं राधा हैं। 'प्रेम वाटिका' में यद्यपि प्रेम सम्बन्धी दोहे हैं, किन्तु रसखान ने उसके माली कृष्ण और मालिन राधा ही को चरितार्थ किया है। आलम्बन-निरूपण में रसखान पूर्णत: सफल हुए हैं। वे गोपियों का वर्णन भी उसी तन्मयता के साथ करते हैं, जिस तन्मयता के साथ कृष्ण का।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. प्रेमवाटिका (हिंदी) हिंदी समय। अभिगमन तिथि: 15 जून, 2014।
और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=प्रेम_वाटिका&oldid=597934" से लिया गया