उस्ताद मंसूर  

उस्ताद मंसूर को 'मंसूर' नाम से भी जाना जाता था, जो मुग़ल दरबार का एक प्रसिद्ध चित्रकार था। मुग़ल बादशाह जहाँगीर ने उसे संरक्षण प्रदान किया था।

  • मंसूर के कुछ चित्र अब भी मिलते हैं, जो उसके समकालीन द्वारा की गई उसकी चित्रकला की प्रशंसा को प्रमाणित करते हैं।
  • उस्ताद मंसूर एवं अबुल हसन जहाँगीर के श्रेष्ठ कलाकारों में से थे। उन्हें बादशाह ने क्रमशः 'नादिर-उल-अस्र' एवं 'नादिरुज्जमा' की उपाधि प्रदान की थी।
  • मंसूर दुर्लभ पशुओं, बिरले पक्षियों एवं अनोखे पुष्प आदि के चित्रों को बनाने का चित्रकार था। उसकी महत्त्वपूर्ण कृति में 'साइबेरिया का बिरला सारस' एवं बंगाल का एक पुष्प है।
  • वह पक्षी-चित्र विशेषज्ञ तथा अबुल हसन व्यक्ति-चित्र विशेषज्ञ था।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=उस्ताद_मंसूर&oldid=517585" से लिया गया