अर्जन सिंह से सम्बंधित तथ्य  

अर्जन सिंह विषय सूची
अर्जन सिंह    परिचय    महत्त्वपूर्ण तथ्य
अर्जन सिंह से सम्बंधित तथ्य
अर्जन सिंह
पूरा नाम अर्जन सिंह
जन्म 16 अप्रॅल, 1919
जन्म भूमि लायलपुर, पंजाब
मृत्यु 16 सितम्बर, 2017
स्थान दिल्ली
सेना भारतीय वायु सेना
युद्ध द्वितीय विश्व युद्ध, भारत-पाकिस्तान युद्ध (1965)
शिक्षा आरएएफ कॉलेज क्रैनवेल
सम्मान 'पद्म विभूषण' (1965)
प्रसिद्धि प्रथम भारतीय एयर चीफ़ मार्शल
नागरिकता भारतीय
नेतृत्व नंबर 1 स्क्वाड्रन आईएएफ अंबाला वायु सेना स्टेशन पश्चिमी कमान
विशेष दिल्ली के पास अपने फार्म को बेचकर अर्जन सिंह ने 2 करोड़ रुपए ट्रस्ट को दे दिए थे। ये ट्रस्ट सेवानिवृत्त एयरफोर्स कर्मियों के कल्याण के लिए बनाया गया था।
अन्य जानकारी अर्जन सिंह ने अराकान अभियान के दौरान 1944 में जापान के खिलाफ एक स्क्वाड्रन का नेतृत्व किया। इम्फाल अभियान के दौरान हवाई अभियान को अंजाम दिया और बाद में यांगून में अलायड फोर्सेज का काफी सहयोग किया।
अर्जन सिंह को जब वायु सेना प्रमुख बनाया गया था तो उनकी उम्र उस वक्त महज 44 साल थी और आजादी के बाद पहली बार लड़ाई में उतरी भारतीय वायु सेना की कमान उनके ही हाथ में थी। 1965 के भारत-पाकिस्तान युद्ध में उन्होंने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। अर्जन सिंह भारतीय वायु सेना के एक मात्र अधिकारी थे, जिनकी पदोन्नति पांच सितारा रैंक तक हुई। देश में पांच स्टार वाले तीन सैन्य अधिकारी रहे थे, जिनमें से फील्ड मार्शल सैम मानेकशॉ और फील्ड मार्शल के. एम. करियप्पा का नाम है। ये तीनों ही ऐसे सेनानी रहे, जो कभी सेना से रिटायर नहीं हुए।

उल्लेखनीय तथ्य

  • मार्शल रैंक फ़ील्ड मार्शल के बराबर होता है, जो केवल थल सेना के अफ़सरों को दिया जाता रहा था। के. एम. करियप्पा और सेम मानेकशॉ दो ऐसे थल सेना के जनरल थे, जिन्हें फ़ील्ड मार्शल बनाया गया था। अर्जन सिंह वायु सेना और ग़ैर थल सेना के ऐसे पहले अफ़सर थे, जिन्हें मार्शल का रैंक दिया गया था।
  • देश जब 15 अगस्त, 1947 को स्वतंत्र हुआ, तब अर्जन सिंह को 100 भारतीय वायु सेना के उन विमानों का नेतृत्व करने की ज़िम्मेदारी सौंपी गई थी, जो दिल्ली और लाल क़िले के ऊपर से गुज़रे थे।
  • 1 अगस्त, 1964 को 45 साल की उम्र में अर्जन सिंह भारतीय वायु सेना के प्रमुख बने और वे ऐसे पहले वायु सेना प्रमुख थे, जिन्होंने चीफ़ ऑफ़ एयर स्टाफ़ यानी प्रमुख रहते हुए भी वे विमान उड़ाते रहे और अपनी फ्लाइंग कैटिगरी को बरकार रखा।
  • अर्जन सिंह ने अपने कार्यकाल में 60 तरह के विमान उड़ाए, जिनमें दूसरे विश्वयुद्ध के वक्त के बाइप्लेन से लेकर नैट्स और वैम्पायर प्लेन शामिल हैं।
  • चीन के साथ 1962 की लड़ाई के बाद 1963 में उन्हें वायु सेना उप-प्रमुख बनाया गया था। 1 अगस्त, 1964 को जब वायु सेना अपने आप को नई चुनौतियों के लिए तैयार कर रही थी, उस समय एयर मार्शल के रूप में अर्जन सिंह को इसकी कमान सौंपी गई थी।
  • अर्जन सिंह न केवल निडर पायलट थे, बल्कि उन्हें वायु सेना की गहरी जानकारी थी। पाकिस्तान के खिलाफ 1965 में हुई लड़ाई में अर्जन सिंह ने भारतीय वायु सेना की कमान संभाली और पाकिस्तानी वायु सेना को जीत हासिल नहीं करने दी, जबकि अमेरिकी सहयोग के कारण पाकिस्तानी वायु सेना बेहतर सुसज्जित थी।
  • आईएएफ के पूर्व उप-प्रमुख कपिल काक के अनुसार- "भारतीय वायु सेना के लिए अर्जन सिंह का योगदान अविस्मरणीय है। आईएएफ उनके साथ आगे बढ़ा। वह अद्भुत विवेक वाले सैन्य नेतृत्व के महारथी थे, इसलिए यह आश्चर्यजनक नहीं है कि उन्हें वायु सेना में मार्शल रैंक से सम्मानित किया गया।" काक का यह भी कहना था कि- "उनका सर्वाधिक यादगार योगदान पाक के खिलाफ युद्ध में रहा।" युद्ध में उनकी भूमिका की प्रशंसा करते हुए तत्कालीन रक्षामंत्री वाईबी चव्हाण ने अर्जन सिंह के लिए कहा था कि- "एयर मार्शल अर्जन सिंह एक असाधारण व्यक्ति हैं, काफी सक्षम और दृढ़ हैं, काफी सक्षम नेतृत्व देने वाले हैं।"
  • मार्शल अर्जन सिंह ने अराकान अभियान के दौरान 1944 में जापान के खिलाफ एक स्क्वाड्रन का नेतृत्व किया था। इम्फाल अभियान के दौरान हवाई अभियान को अंजाम दिया और बाद में यांगून में अलायड फोर्सेज का काफी सहयोग किया। उनके इस योगदान के लिए दक्षिण पूर्व एशिया के सुप्रीम अलायड कमांडर ने उन्हें 'विशिष्ट फ्लाइंग क्रास' से सम्मानित किया था और वह इसे प्राप्त करने वाले पहले पायलट थे।
  • अर्जन सिंह बहुत कम बोलने वाले शख्स के तौर पर पहचाने जाने जाते थे। वह ना केवल निडर लड़ाकू पायलट थे, बल्कि उनको हवाई शक्ति के बारे में गहरा ज्ञान था, जिसका वह हवाई अभियानों में व्यापक रूप से इस्तेमाल करते थे। उन्हें 1965 में देश के दूसरे सर्वोच्च नागरिक सम्मान 'पद्म विभूषण' से सम्मानित किया गया था।
  • सितंबर, 1965 में पाकिस्तान ने ऑपरेशन ग्रैंड स्लैम के तहत भारत पर हमला बोल दिया था। अखनूर जैसे अहम शहर को निशाना बनाया गया। उस समय रक्षामंत्री ने वायुसेना प्रमुख रहे अर्जन सिंह को अपने दफ्तर में बुलाया और एयर सपोर्ट मांगा। अर्जन सिंह से पूछा गया कि वायुसेना को तैयारी में कितना वक्त लगेगा। अर्जन सिंह का जवाब था- एक घंटा.. और उसी के मुताबिक वायुसेना ने एक घंटे के अंदर पाकिस्तान पर हमला बोल दिया था।
  • दिल्ली के पास अपने फार्म को बेचकर अर्जन सिंह ने 2 करोड़ रुपए ट्रस्ट को दे दिए थे। ये ट्रस्ट सेवानिवृत्त एयरफोर्स कर्मियों के कल्याण के लिए बनाया गया था। अर्जन सिंह दिसंबर, 1989 से दिसंबर, 1990 तक वे दिल्ली के उपराज्यपाल भी रहे।
  • 27 जुलाई, 2015 को पूर्व राष्ट्रपति डॉ. अब्दुल कलाम के निधन के बाद अंतिम दर्शन के लिए राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री समेत कई नेता पहुंचे थे। अर्जन सिंह व्हीलचेयर पर उन्हें दर्शन करने पहुंचे थे। कलाम को देखते ही खुद चलकर पास आए और तनकर सलामी दी।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

अर्जन सिंह विषय सूची
अर्जन सिंह    परिचय    महत्त्वपूर्ण तथ्य

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=अर्जन_सिंह_से_सम्बंधित_तथ्य&oldid=608040" से लिया गया